तेहरान में फिर बम धमाके ,इलाकों में बिजली गुल ,इजरायली हमले का संदेह

News Desk

तेहरान
ईरान की राजधानी तेहरान एकबार फिर से बम धमाकों से गूंज उठी है। शुक्रवार अल सुबह पश्चिमी तेहरान में विस्‍फोट की तेज आवाज सुनी गई। विस्‍फोट की वजह से दो आवासीय इलाकों में बिजली चली गई। विस्‍फोट की वजह से सोये हुए लोग अचानक से उठ गए। यह विस्‍फोट किस जगह पर हुआ है, अभी इसका ठीक-ठीक पता नहीं चल पाया है। इस विस्‍फोट के बाद ईरान में सरकार के सुरक्षा उपायों को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए हैं।

विश्‍लेषकों का कहना है कि इस इलाके में ईरानी सेना के कई ठिकाने हैं और माना जा रहा है कि इस विस्‍फोट में किसी को निशाना बनाया गया है। अभी तक इस विस्‍फोट के कारणों का पता नहीं चल पाया है। हालांकि विस्‍फोट को लेकर एक बार फिर से इजरायल पर सवाल उठ रहे हैं। ईरानी सेना की विशेषज्ञ फबियान हिंज ने कहा, 'इस इलाके में ईरान के दो अंडरग्राउंड केंद्र हैं। इसमे से एक में केमिकल वेपन पर शोध होता है और दूसरा अज्ञात सैन्‍य उत्‍पादन केंद्र है।'

पिछले तीन सप्‍ताह में ईरान में यह तीसरा बड़ा विस्‍फोट है। बताया जा रहा है कि यह विस्‍फोट स्‍थानीय समयानुसार रात को 3 बजे हुआ। इससे पहले हुए दो विस्‍फोट ईरान के प्रमुख सैन्‍य और परमाणु ठिकाने खोजिर में हुए थे जहां देश का सबसे बड़ा मिसाइल उत्‍पादन केंद्र और नतांज परमाणु ठिकाना है। नतांज में यह हमला सेंट्रीफ्यूज असेंबली की बिल्डिंग में हुआ था।

'नतांज परमाणु केंद्र पर हमले के पीछे इजरायल का हाथ'
ईरान ने खोजिर को गैस टैंक में लीक की घटना करार दिया था। वहीं स्‍वतंत्र विश्‍लेषकों का कहना है कि यह अभी तक स्‍पष्‍ट नहीं है कि यह दुर्घटना थी या हमला था। ईरान ने राष्‍ट्रीय सुरक्षा का हवाला देकर नतांज परमाणु केंद्र में हुए विस्‍फोट का भी विवरण नहीं दिया है। उधर, पश्चिम एशिया के खुफिया अधिकारियों का कहना है कि नतांज परमाणु केंद्र पर हमले के पीछे इजरायल का हाथ था। ईरानी सेना के एक सदस्‍य ने बताया कि इस हमले में विस्‍फोटकों का भी इस्‍तेमाल किया गया था।

ईरान ने पुष्टि की थी कि भूमिगत नतान्ज परमाणु स्थल पर क्षतिग्रस्त हुई इमारत असल में एक नया सेंट्रिफ्यूज केंद्र था। ईरान की आधिकारिक समाचार एजेंसी आईआरएनए ने यह खबर दी है। सेंट्रिफ्यूज वह मशीन होती है जिसमें विभिन्न घनत्व वाले द्रवों को या ठोस पदार्थ से तरल पदार्थों को अलग करने के लिए सेंट्रिफ्यूजल फोर्स का इस्तेमाल होता है।

ईरान बोला- हम जवाब जरूर देंगे
ईरान के नागरिक सुरक्षा प्रमुख घोलमरेजा जलाली ने कहा कि साइबर अटैक का जवाब देना हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा का हिस्सा है। अगर यह साबित हो जाता है कि साइबर अटैक के जरिए हमारे देश को निशाना बनाया गया है तो हम जरूर जवाब देंगे। ईरानी समाचार एजेंसी आईआरएनए ने इस दुर्घटना के पीछे अपने दुश्मन इजरायल और अमेरिका पर शक जताया था।

मोसाद ने विफल किया हमला
ईरान की धमकी के बाद इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद ने दावा किया था कि उसने विश्‍वभर में इजरायली दूतावासों पर हाल ही में किए गए ईरानी हमले को व‍िफल कर दिया है। मोसाद ने कहा कि ये हमले बेहद सुनियोजित तरीके से ईरान की ओर से किए गए थे। इजरायल के चैनल 12 ने कहा कि खुफिया ब्‍यूरो ने इस ईरानी हमले को विफल किया है।

 

Next Post

10 हजार रुपए जमा फिर भी अब तक नहीं लगे नल कनेक्शन, 60 फीसदी एरिया में नल कनेक्शन नहीं

भोपाल नगर निगम जलकार्य शाखा के आला अधिकारियों की उदासीनता का खामियाजा जोन क्रमांक 18 कोलार के आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है। दरअसल पिछले 5 महीने से नल कनेक्शन कागजों में अटके हुए हैं। पेंडिंग कनेक्शन की लिस्ट इतनी लंबी है कि अफसर बताने से कतरा रहे हैं। […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।