इजरायली पैसेंजर प्लेन के करीब पहुंचा रूस का सुखोई एसयू-27 लड़ाकू विमान

News Desk

तेल अवीव
ग्रीस से तेल अवीव जा रहे इजरायल के एक यात्री विमान के बेहद पास एक रूसी फाइटर जेट पहुंच गया। विमान में बैठे यात्री इतनी नजदीक किसी दूसरे देश के फाइटर जेट को देखकर घबरा गए। जिस समय यह घटना हुई उस समय इजरायली यात्री विमान साइप्रस के एयरस्पेस में था। साइप्रस के एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने इतने नजदीक रूसी फाइटर प्लेन को देखकर तत्काल चेतावनी जारी की। जिसके बाद से वह लड़ाकू विमान इजरायल के यात्री विमान से दूर हुआ।

साइप्रस के एयरस्पेस में हुई घटना
टाइम्स ऑफ इजरायल की रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना रविवार दोपहर की है। उस समय इजरायली यात्री विमान एयरबस A320 ग्रीस के द्वीप रोड्स से तेल अवीव के लिए जा रहा था। तभी खतरनाक ढंग से रूसी सुखोई Su-27 इस यात्री विमान के करीब आ गया। दोनों विमानों ने लगभग एक मिनट तक खतरनाक दूरी पर उड़ान भरी।

क्या है वैश्विक उड़ान नियम
वैश्विक हवाई उड़ान नियमों के अनुसार, किसी भी यात्री विमान के उड़ान के दौरान उसके एक मील के दायरे में कोई भी लड़ाकू विमान नहीं आ सकता है। ऐसा तभी किया जाता है जब कोई आपात स्थिति हो या फिर यात्री विमान ने इसके लिए सहायता मांगी हो। लेकिन, रूस के इस लड़ाकू विमान ने अचानक इजरायली यात्री विमान के पास आकर खतरा पैदा कर दिया।

रूस और इजरायल ने साधी चुप्पी
इस घटना पर न तो इजरायल ने और न हीं रूस के सरकारी अधिकारियों ने कोई टिप्पणी की है। रूस के जंगी जहाज इस समय सीरिया में तैनात हैं। जो आए दिन पड़ोसी देशों की सीमा पार कर दूसरे की एयरस्पेस में घुस जाते हैं। इसी कारण जब भी कोई यात्री विमान इस क्षेत्र से गुजरता है तो उसे इजरायल या तुर्की के फाइटर जेट अपने संरक्षण में लेकर सुरक्षित रूप से बॉर्डर पार कराते हैं।

पहले भी रूसी जेट कर चुके हैं ऐसी हरकतें
रूस के फाइटर जेट पहले भी ऐसी खतरनाक हरकत कर चुके हैं। अगस्त में ही रूसी फाइटर जेट अमेरिका के बी-52 स्ट्रैटजिक बॉम्बर के ठीक सामने से कलाबाजियां करता हुआ निकला था। हालांकि, अमेरिकी पायलट ने तत्परता दिखाते हुए दोनों विमानों की टक्कर को बचाया।

Next Post

त्रिपक्षीय मालाबार नौसैनिक अभ्यास में हिस्सा लेने ऑस्ट्रेलिया आमंत्रित

नई दिल्ली पूर्वी लद्दाख में चीन (China) के साथ चल रहे सैन्य टकराव के बीच भारत (India) ने सोमवार को औपचारिक रूप से अमेरिका और जापान के साथ त्रिपक्षीय मालाबार नौसैनिक अभ्यास में हिस्सा लेने के लिए ऑस्ट्रेलिया को आमंत्रित किया है। पिछले चार दशकों में बीजिंग और नई दिल्ली […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।