अमेरिका: टाइम्स स्क्वॉयर पर गूंजे ‘बायकॉट चाइना’ के नारे, ड्रैगन की आक्रामकता के खिलाफ प्रदर्शन

News Desk

वॉशिंगटन
भारत के गांवों के चौराहों से लेकर अमेरिका के टाइम्स स्क्वायर तक इन दिनों एक ही आवाज है- बॉयकॉट चाइना। चीन की आक्रामकता के खिलाफ न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वायर में भारतीय अमेरिकी, तिबत्ती और ताइवानी अमेरिकी नागरिकों ने चीन के खिलाफ प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों के हाथों में 'बॉयकॉट चाइना' और 'चाइनीज बदमाशी रोको' जैसे नारे लिखे हुए तख्तियां थीं। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि तीन T से चीन को हराने में मदद मिल सकती है। पहला यह कि चीन के साथ ट्रेड खत्म कर दिया जाए और चीनी सामानों का बहिष्कार किया जाए, दूसरा तिब्बत की पूर्ण स्वतंत्रता और ताइवान को पूरा सपॉर्ट। अमेरिकन इंडिया पब्लिक अफेयर्स कमिटी के प्रेजिडेंट जगदीश सेवहानी नग्न आक्रमकता के लिए चीन पर बरसे। 

सेवहानी ने एएनआई से बात करते हुए कहा, ''जब दुनिया पिछले छह महीने से कोरोना वायरस महामारी से लड़ रही है, पड़ोसियों और भारत के खिलाफ चीन की नग्न आक्रामकता स्वीकार्य नहीं है। चीन दुनिया पर दादागिरी जमाना चाहता है। चीन अमेरिका और भारत को बर्बाद करना चाहता है। लेकिन इस बार उन्हें आक्रामकता की बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।'' उन्होंने कहा, ''अब देखिए चीन अपने ही देश में क्या कर रहा है। वे हांगकांग को दबा रहे हैं। उन्होंने तिब्बत में नरसंहार किया और देखिए उन्होंने मुसलमानों के साथ क्या किया। मानवाधिकारों का सबसे खराब हनन चीन में ही हुआ।'' चीन के खिलाफ यह प्रदर्शन गलवान हिंसक झड़प के कुछ दिनों बाद हुआ है। 15 जून को पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए और 76 घायल हो गए।  गलवान झड़प के बाद से चीन के खिलाफ अमेरिका के कई शहरों में प्रदर्शन हो चुके हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई ने बताया कि राजनीतिक शरण लेकर रह रहे तिब्बती और ताइवान के कार्यकर्ता भी प्रदर्शन में शामिल हुए। निर्वासित तिब्बती संसद के सदस्य दोर्जी सेतेन ने कहा कि तिब्बत के लोग भारतीय भूमि में चीनी घुसपैठ का जोरदार विरोध करते हैं।
 

Next Post

प्रसिद्ध डॉ अलका रहालकर ने की आत्महत्या.. सुसाइड नोट जब्त, जांच में जुटी पुलिस..

बिलासपुर शहर के प्रसिद्व डॉक्टर डॉ.चंद्रशेखर रहालकर की धर्मपत्नी डॉ. अलका रहालकर ने सुसाइड कर लिया है। उनके पास एक सुसाइड लेटर बरामद हुआ है, पुलिस मामले की जांच में जुटी है।बताया जा रहा है, कि उन्होंने जहर का इंजेक्शन लेकर सुसाइड किया है। वे बीते कई दिनों से डिप्रेशन […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।