विकास दुबे ने भाई दीपू के रायफल से पुलिस पर बरसाईं थीं गोलियां, STF के हाथ लगे कई सुराग

News Desk

 कानपुर  
एसटीएफ ने जो सेमीआटोमेटिक राइफल बरामद की है, वह बिकरू कांड में जेल गए आरोपित शिव तिवारी निवासी बसेन गांव चौबेपुर के नाम लाइसेंस पर दर्ज है। इसके अलावा विकास दुबे के भाई दीपू दुबे के नाम पर एक और सेमीआटोमेटिक राइफल थी, जिसकी अभी तलाश की जा रही है। एक और तथ्य का खुलासा हुआ है कि बिकरू कांड में दो सेमीआटोमेटिक राइफल का प्रयोग हुआ था। जिसमें एक राइफल विकास दुबे ने भी चलाई थी। एसटीएफ अधिकारियों के मुताबिक बरामद हुई यह राइफल वही है इसकी जानकारी नहीं हो पाई है। हालांकि विकास के भाई दीपू के सरेंडर के बाद उसने पूछताछ में यह तथ्य कबूला था कि एक सेमीआटोमेटिक राइफल उसकी है, जो कि विकास दुबे ने अपने पास रख ली थी।
 

शिव तिवारी की बरामद सेमीआटोमेटिक राइफल को लेकर एक विवाद पैदा हो गया है। एसटीएफ अधिकारियों का कहना है कि इस राइफल का लाइसेंस उसने शिवली के पते से बनवाया है। वहीं चौबेपुर पुलिस का कहना है कि लाइसेंस की रिपोर्ट चौबेपुर थाने से लगाई गई थी और वह सिर्फ एक राइफल का लाइसेंस था। ऐसे में सेमीआटोमेटिक लाइसेंस में कैसे दर्ज हुई इसकी जानकारी पुलिस को भी नहीं है। एसटीएफ अधिकारियों का कहना है कि बिकरू में घटना वाली रात अकेले सेमीआटोमेटिक राइफल के एक हजार से ज्यादा कारतूस विकास दुबे के पास मौजूद थे। जिससे वह एक प्लाटून पीएसी से भी मोर्चा ले सकता था। अन्य बोर के सैकड़ों कारतूस थे। इनमें सौ से ज्यादा दागे गए। जिससे पुलिसकर्मी शहीद व घायल हुए।

गाड़ी में रखने के लिए कटवा दी थी बट
एसटीएफ ने जो सेमीआटोमेटिक राइफल बरामद की है, उसकी बट आधी कटवाकर उसे माडिफाई कराया गया था। एसटीएफ अधिकारियों के मुताबिक कार में आसानी से राइफल आ जाए, इसके लिए इसकी बट को कटवाकर छोटा कराया गया था।

Next Post

कलयुगी बेटे ने की अपनी मां की हत्या...शराब पीने के लिए पैसे नहीं देने पर ले ली जान..जांच में जुटी पुलिस...

कोरिया छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आयी है। जहां एक कलयुगी बेटे ने मामूली सी वजह के चलते अपनी ही मां की हत्या कर दी।लोग शराब के नशे में हत्या के कई घटनाओं को अंजाम देते है। तो कई लोग शराब के नशे […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।