वकों की अपहरण के बाद हत्या, शव पर फेंक दिया तेजाब

News Desk

 वाराणसी  
यूपी के हनुमान घाटी पहाड़ी (अहरौरा, मिर्जापुर) के पास शुक्रवार को गड्ढे में मिले तेजाब से जलाए गए दोनों शव वाराणसी के युवकों के थे। उनकी अपहरण के बाद हत्या  हुई थी और शव अहरौरा में फेंका गया था। वे 22 दिसंबर से लापता थे। उनमें एक वाराणसी के महमूरगंज के गोपाल विहार कॉलोनी निवासी अशोक कुमार पांडेय का इकलौता बेटा 24 वर्षीय रवि पांडेय और दूसरा गोला दीनानाथ निवासी बब्बल केसरी का 24 वर्षीय पुत्र शुभम केसरी था। अशोक पांडेय एक दवा फर्म में काम करते हैं। रवि हरिश्चंद्र पीजी कॉलेज में बीकॉम तृतीय वर्ष का छात्र था। बब्बल केसरी की गोलादीनानाथ के रंग मार्केट में परचून की दुकान है। 

दोनों युवक जिस बाइक (यूपी-65 एक्यू 8867) से निकले थे, वह शुभम के पड़ोसी सुनील गुप्ता की थी। बाइक बरामद नहीं हुई है। शुभम केसरी डी-25 गैंग का सरगना और चौक थाने के टाप-10 अपराधियों में एक था। उस पर हत्या, लूट और रंगदारी कुल 14 केस थे। वह 28 अगस्त 2017 को चौक में मोहन निगम की हत्या में भी आरोपित था। वह लॉकडाउन में जिला जेल से पैरोल पर बाहर आया था। फिर हाजिर नहीं हुआ। जेल प्रशासन के पत्राचार के बाद भी कोतवाली पुलिस उसे पकड़कर पेश नहीं कर पाई थी।  अहरौरा पुलिस के मुताबिक एक या दो दिन पहले हत्या करके शव यहां लाकर फेंका गया। तेजाब डालकर पहचान मिटाने की कोशिश की गई। दोनों के हाथ बंधे थे। आशंका है कि 22 दिसंबर की रात ये कहीं निकले, फिर अपहरण कर कई दिन रखा गया होगा। 

Next Post

5 उपनिरीक्षकों का तबादला

रायपुर पुलिस विभाग में पांच उप निरीक्षकों को प्रशासनिक दृष्टिकोण से तत्काल प्रभावशील से स्थानांतरित कर नवीन पदस्थापना के आदेश एसएसपी अजय यादव के हस्ताक्षर से जारी हुआ है।   सूची में ढालूदास माणिकपुरी थाना धरसींवा (पु.स.के. सिलतरा) से रक्षित आरक्षी केंद्र, प्रियेश जॉन रक्षित आरक्षी केंद्र से पु.स.के. सिलतरा),  […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।