यूपी में चलता रहेगा आंधी-पानी का सिलसिला 

News Desk

 लखनऊ 
पश्चिमी विक्षोभ और चक्रवातीय दबाव के चलते उत्तर प्रदेश में आने वाले दिनों में आंधी-पानी का सिलसिला बना रहेगा। मौसम निदेशक जेपी.गुप्त के अनुसार वैसे तो यह पश्चिमी विक्षोभ मई के महीने में सक्रिय होते थे जो मानसून आने से पहले तक चलते थे मगर इस बार इनकी शुरुआत अप्रैल में ही हो गई। उन्होंने बताया कि अगले दो तीन दिन प्रदेश में मौसम साफ रहेगा, उसके बाद फिर आंधी-बारिश के आसार हैं। उन्होंने शुक्रवार को पश्चिमी यूपी के उत्तरी क्षेत्र में कहीं-कहीं आंधी-पानी की आशंका जताई है।

बुधवार की रात प्रदेश के कई हिस्सों में तेज आंधी और बारिश की वजह से गेहूं की तैयार होती फसल को काफी नुकसान होने की खबर है। मौसम निदेशक के अनुसार बुधवार की रात आयी आंधी की रफ्तार 40 से 50 किलोमीटर प्रतिघंटे की थी। इस अवधि में सबसे अधिक 3-3 सेण्टीमीटर बारिश लखनऊ, बाराबंकी, गोण्डा और सीतापुर में रिकाॅर्ड की गई।

इसके अलावा  बाराबंकी के सिरौली गौसपुर, महाराजगंज के फरेंदा, बलिया, श्रावस्ती के कतर्नियाघाट, उन्नाव के सफीपुर, बरेली के नवाबगंज और मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा में 2-2 से.मी.बारिश दर्ज की गयी। इस आंधी पानी की वजह से बुधवार की रात और गुरुवार को दिन के तापमान में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज की गई।
 

Next Post

मीटिंग: PM की केजरीवाल को नसीहत, संयम का पालन करें, दिल्ली सीएम ने मांगी माफी

नई दिल्ली देश के 11 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को लाइव टेलीकास्ट करने पर प्रोटोकॉल के पालन की नसीहत दी। मीटिंग के एक हिस्से का अरविंद केजरीवाल लाइव टेलीकास्ट कर रहे थे। इस […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।