यूपी बीएड में साढ़े पांच लाख से ज्यादा अभ्यर्थी, फिर भी सीटें खाली

News Desk

लखनऊ 
लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा प्रदेश स्तर पर कराए जा रहे बीएड दाखिले की प्रक्रिया में काउंसलिंग के चार राउंड पूरे हो चुके हैं, लेकिन अब भी सीटें बची हुई हैं। चार चरणों में एक लाख 31 हजार सीटें अभ्यर्थियों को एलॉट की गई हैं, जबकि अभ्यर्थी कुल पांच लाख 91 हजार हैं। वहीं कुल सीटें दो लाख 25 हजार हैं। बीएड में सरकारी कॉलेजों की सीटें 7-8 हजार ही हैं। बाकी सहायता प्राप्त या फिर प्राइवेट कॉलेजों की हैं। सरकारी कॉलेजों की सीटें तो पहले ही राउंड में भर गईं और सहायता प्राप्त भी लगभग फुल हो चुकी हैं। बची सीटें प्राइवेट कॉलेजों की हैं। उधर कॉलेजों की बात करें तो कई ऐसे भी हैं, जहां काउंसलिंग के चार राउंड होने के बादएक भी सीट किसी अभ्यर्थी को एलॉट नहीं हुई है। इन कॉलेजों को अब सीधे प्रवेश का ही सहारा है, क्योंकि पूल काउंसलिंग से कोई विशेष फर्क नहीं पड़ने वाला।

22 से शुरू होनी है पूल काउंसलिंग
राज्य बीएड प्रवेश समन्यवक प्रो. अमिता बाजपेई के अनुसार, चार राउंड में जिन अभ्यर्थियों को सीट एलॉट की गई है, यदि वे बैलेंस फीस जमा नहीं करते हैं तो उनका एलॉटमेंट रद्द हो जाएगा। ऐसे में पूरी संभावना है कि जितनी सीटें अभी तक एलॉट हो चुकी हैं, उनमें से भी कुछ बच जाएं, क्योंकि कई अभ्यर्थी हैं जिन्होंने काउंसलिंग तो करवा ली पर दाखिला नहीं ले रहे हैं।

Next Post

सीएम बघेल ने दोस्त को कराई हेलीकॉप्टर की यात्रा

दुर्ग छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने अलग अंदाज के लिए जाने जाते हैं. विजयदशमी के मौके पर सीएम बघेल आज अपने गृह विधानसभा क्षेत्र पाटन के कुरूदडीह गांव पहुंचे, इस दौरान सीएम बघेल ने अपने बचपन के दोस्त नारायण निषाद से मुलाकात की और उससे किया हुए एक वादा […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।