यूपी: ओवैसी की एंट्री से डरे अखिलेश! सवालों से काटी कन्नी

News Desk

वाराणसी
उत्तर प्रदेश की पॉलिटिक्स में AIMIM के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी की एंट्री हो चुकी है। समाजवादी पार्टी के गढ़ आजमगढ़ से ओवैसी यूपी में चुनावी शंखनाद कर रहे हैं। ओवैसी ने वाराणसी में एसपी मुखिया अखिलेश यादव पर जमकर निशाना साधा। वहीं जब अखिलेश से ओवैसी के इन आरोपों पर सवाल पूछे गए तो वह बोलने से बचते नजर आए। यूपी में ओवैसी की एंट्री और आजमगढ़ से चुनावी शंखनाद इन सबके बीच अखिलेश यादव की चुप्पी कहीं न कहीं ये बताती है कि सूबे में ओवैसी के आने से एसपी को भी अपने वोट बैंक में सेंध लगने की आहट है। शायद यही वजह रही कि जब जौनपुर में पारसनाथ यादव की जयंती समारोह में शमिल होने के लिए एसपी मुखिया अखिलेश यादव वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचे तो उन्होंने ओवैसी पर चुप्पी साधे रखी। ओवैसी के आजमगढ़ दौरे पर जब उनसे सवाल पूछा गया तो वह ओवैसी पर बोलने की बजाए समाजवादियों से आजमगढ़ के रिश्ते को समझाने लगे।

आजमगढ़ से ओवैसी के शंखनाद के सवाल जब मीडिया ने अखिलेश यादव से पूछा तो अखिलेश ने कहा कि आजमगढ़ की जनता समाजवादी पार्टी का परिवार है। आजमगढ़ से हमारा रिश्ता आज का नहीं है। जब मैं राजनीति में नहीं था तब से आजमगढ़ का रिश्ता समाजवादियों से रहा है। नेताजी से इस रिश्ते की शुरुआत हुई थी। उन्होंने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता बीजेपी को हटाना चाहती है। अखिलेश यादव ने मीडिया से बातचीत में मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी से अच्छा कोई झूठ नहीं बोलता है। उन्होंने आगे कहा कि हमारी गरीब जनता को कब तक फ्री वैक्सीन मिलेगी सरकार को इसका जवाब देना चाहिए। कृषि कानून पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद अखिलेश यादव ने मोदी सरकार से कृषि बिल तुरंत वापस लेने की मांग की है। उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी को कम से कम ये याद रखना चाहिए कि उन्होंने किसानों की आय दोगुनी कहने की बात कही थी और अब एमएसपी मांग रहे किसानों को बीजेपी को एमएसपी देना चाहिए।

Next Post

सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को दिया बड़ा झटका

  नई दिल्ली कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट की अंतरिम रोक लगाने का आदेश के बाद कृषि कानून का विरोध करने वाले वकील एम एल शर्मा ने चीफ जस्टिस एस ए बोबडे की तीराफों के कसीदे पढ़ दिए। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों पर रोक लगाते […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।