मौसम अपडेट : यूपी के कई जिलों में आज चलेगी धूल भरी आंधी, होगी बारिश

News Desk

 लखनऊ 
पाकिस्तान के आसपास विकसित हुए पश्चिमी विक्षोभ की वजह से देश के अन्य उत्तरी राज्यों के साथ ही उत्तर प्रदेश में भी शुक्रवार से मौसम का मिजाज बदला। पश्चिमी यूपी में शुक्रवार की शाम को धूल भरी आंधी चली और कई जगह पर हल्की बारिश हुई। मौसम निदेशक जेपी गुप्त के अनुसार शनिवार को भी राज्य के कई जिलों में धूल भरी आंधी और गरज-चमक के साथ हल्की बारिश हो सकती है।

जेपी गुप्त ने बताया कि यह पश्चिमी विक्षोभ का असर रविवार और सोमवार को भी जारी रहेगा और पूर्वी उत्तर प्रदेश का मौसम खराब बना रहेगा। इसके साथ, कहीं-कहीं ओलावृष्टि के भी आसार जताए गए हैं। मौसम में होने वाला यह बदलाव प्रदेश के किसानों के लिए नई मुसीबत लेकर आने वाला है क्योंकि इन दिनों गेहूं की कटाई जोरों पर चल रही है। तमाम किसानों की कटी हुई फसल खलिहानों में पड़ी हुई है। आंधी-पानी से किसानों को नुकसान हो सकता है।

बुधवार को दक्षिणी-पश्चिम मानसून के पहले दीर्घकालिक पूर्वानुमान के बारे में मौसम निदेशक ने बताया कि इस बार मानसून का पैटर्न थोड़ा बदला हुआ रहेगा। इस लिहाज से उत्तर प्रदेश में मानसून का आगमन 15 से 18 जून के 20 से 25 जून के बीच हो सकता है। उन्होंने कहा कि पहले पूर्वानुमान के अनुसार उत्तर प्रदेश में भी मानसून सामान्य रहेगा।

तेज हवा-बादलों से दिल्ली एनसीआर के तापमान में आई गिरावट
दिल्ली एनसीआर में तेज हवाओं और बादलों के चलते शुक्रवार को तापमान में गिरावट आई। ज्यादातर हिस्सों में शुक्रवार सुबह हल्के बादल छाए रहे। दिन निकलने के साथ ही धूप तीखी हो गई, लेकिन बीच-बीच में हल्के बादलों की आवाजाही लगी रही। दोपहर बाद दिल्ली के कई हिस्सों में घने काले बादल छा गए। इस दौरान हवा की रफ्तार तीस किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा थी।

Next Post

जब सरकार देवत हे दो महीना के चांऊर,त काबर घर ले बाहिर जाबो

रायपुर फिंगेश्वर विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत बोरिद की भुंजिया पारा में अंत्योदय के 86 परिवारों को दो महीने का नि:शुल्क चावल मिला। भुंजिया समुदाय के फिरंतीन बाई भुंजिया व साकिन बाई कहती है कि जब हमर सरकार घर घर मे बैठे-बैठे दो महीना के चँउर देवत हे त काबर बाहर […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।