बिहार में पांच और मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में जल्द ही लगेंगी आरटीपीसीआर मशीनें

News Desk

पटना 
बिहार के पांच और मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में आरटीपीसीआर जांच मशीनें लगाई जाएंगी। इसके माध्यम से राज्य में प्रतिदिन एक लाख से अधिक कोरोना जांच हो सकेगी। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल मधेपुरा, नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल पटना, जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल, भागलपुर, राजकीय मेडिकल कॉलेज अस्पताल, बेतिया और पावापुरी मेडिकल कॉलेज अस्पताल, नालंदा में आरटी पीसीआर मशीनें लगाने का निर्णय लिया है। 

उन्होंने कहा कि इस मशीन की आपूर्ति को लेकर केंद्र से अनुरोध किया गया है। इसके साथ ही राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से कोबास 3800 मशीनें भी उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है। इन मशीनों के आने के बाद बिहार में कोरोना की जांच की संख्या में बढ़ोतरी होगी। 

80 से 85 फीसदी जांच अन्य राज्यों में भी एंटीजन से
मंत्री ने कहा कि मुख्य्मंत्री के निर्देशानुसार एक लाख सैम्पल की प्रतिदिन जांच के लक्ष्य को विभाग पूरा करने में जुटा है। देश के अन्य राज्यों में 80 से 85 फीसदी कोरोना के संक्रमण की जांच एंटीजन किट से हो रही है। बिहार में भी एंटीजन किट से जांच की क्षमता में बढ़ोतरी हुई है। राज्य में मंगलवार तक 92 हजार से अधिक सैम्पल की जांच की गई है। आरटीपीसीआर और कोबास के आने के बाद जांच की क्षमता बढ़ जाएगी। 
 

Next Post

ट्रंप प्रशासन ने H-1B वीजा में कुछ छूट का किया ऐलान, इन्हे होगा फायदा

वाशिंगटन ट्रम्प प्रशासन  ने H-1B वीजा (H1b Visa) के कुछ नियमों में ढील देने का ऐलान किया है। इस फैसले से इन वीजा धारकों को अमेरिका में प्रवेश करने की अनुमति मिल सकेगी। खास तौर से उन लोगों को इससे फायदा मिलेगा जो वीजा प्रतिबंध की वजह से नौकरी छोड़कर […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।