दिल्ली सरकार का कोरोना पर काबू पाने को बड़ा कदम, सत्येंद्र जैन बोले- अब हर महीने होगा सीरो सर्वे

News Desk

नई दिल्ली
कोरोना पर काबू पाने के लिए दिल्ली सरकार ने अब हर महीने सीरो सर्वे कराने का फैसला किया है। यह सर्वे हर महीने की पहली से पांच तारीख तक किया जाएगा। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बुधवार को जानकारी देते हुए बताया कि आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार ने ये फैसला किया है कि अब हम हर महीने सीरो सर्वे कराएंगे ताकि ये पता चल सके कि कितने प्रतिशत लोगों को संक्रमण हो चुका है। 1 से 5 तारीख तक दोबारा से इसके लिए सैंपल लिए जाएंगे। कोरोना से जंग जीत कर फिर से स्वास्थ्य मंत्रालय का कामकाज संभालने के बाद बुधवार को स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दिल्ली में कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन हुआ है। जैन ने दिल्ली में कोरोना वायरस के मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी पहले सीरो सर्वे का हवाला देते हुए कहा कि दिल्ली की एक चौथाई आबादी इससे संक्रमित हुई और ठीक भी हुई। उन्होंने कहा कि कोरोना के प्रसार का आकलन करने के लिए हर माह सीरो सर्वे कराया जाएगा। अगला सर्वे एक से पांच अगस्त तक होगा।

कोरोना को मात दे चुकी है दिल्ली की एक-चौथाई आबादी
पहले सीरो सर्वे में दिल्ली की 23.48 फीसदी आबादी कोरोना संक्रमण की चपेट में आने का खुलासा हुआ है। यह सर्वे 27 जून से 10 जुलाई के बीच हुआ था। इसे  राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र और दिल्ली सरकार ने मिलकर किया था। सर्वे में यह भी आया है कि ज्यादातर लोग बिना लक्षण वाले हैं। महामारी के छह महीने बीत जाने के बाद दिल्ली में 23.48 फीसदी के संक्रमण की चपेट में आने पर सरकार ने कहा कि  लॉकडाउन लगाने, कंटेनमेंट जोन बनाने की वजह से यह संभव हो सका। सर्वे में दिल्ली के लोगों के सहयोग की भी सराहना की गई है।

सीरो सर्वे पर स्वास्थ्य विशेषज्ञों से चर्चा करेगी सरकार 
इसके अलावा राजधानी में बीते माह हुए सीरो सर्वे में 23.48 प्रतिशत लोगों के कोविड-19 से प्रभावित मिलने के बाद दिल्ली सरकार स्वास्थ्य विशेषज्ञों से मशविरा करेगी ताकि यह पता चल सके कि भविष्य की रणनीति में बदलाव करने की आवश्यकता है या नहीं। इस संबंध में मंगलवार को एक अधिकारी ने कहा कि सर्वे के परिणाम दिखाते हैं कि दिल्ली की औसत रूप से 23.48 प्रतिशत आबादी में एंटीबॉडीज की मौजूदगी दिखी है। अधिकारी ने कहा कि हम यह तय करने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों और महामारी विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे कि सर्वे के परिणामों के मद्देनजर भविष्य में कोविड-19 के खिलाफ रणनीति में बदलाव करने की आवश्यकता है या नहीं। 

दिल्ली में अब 15 हजार के करीब कोरोना के एक्टिव केस
राजधानी दिल्ली में लोगों के कोरोना वायरस (COVID-19) से स्वस्थ होने का सिलसिला लगातार जारी है। मंगलवार को कोरोना संक्रमण के 1349 नए मामले सामने आने के बाद यहां अब कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 1,25,096 हो गई है। दिल्ली में फिलहाल 15,288 एक्टिव केस हैं। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग की ओर से मंगलवार शाम को जारी किए गए हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, पिछले 24 घंटों के दौरान 1349 और लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। हालांकि, आज 1200 मरीज ठीक भी हुए हैं। वहीं, 27 लोगों को इस बीमारी के कारण अपनी जान भी गंवानी पड़ी है। राजधानी में अब तक सामने आए कुल 1,25,096 मामलों में से 1,06,118 मरीज पूरी तरह ठीक होकर अपने घरों को जा चुके हैं और 3690 मरीजों की मौत भी हो चुकी है। हेल्थ बुलेटिन में बताया गया है कि राजधानी में आज 5651 आरटीपीआर / सीबीएनएएटी / ट्रूनैट टेस्ट और 15,201 रैपिड एंटीजन टेस्ट किए गए। अब तक कुल 8,51,311 टेस्ट किए जा चुके हैं। दिल्ली में अब कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़कर 689 पर पहुंच गई है। गौरतलब है कि राजधानी में सात हफ्तों में पहली बार सोमवार को कोरोना वायरस के नए मामलों की संख्या 1,000 से कम रही थी और इसके लिए 'आप' तथा भाजपा में श्रेय लेने की होड़ लग गई है। 'आप' ने नए मामलों में आ रही कमी के लिए "केजरीवाल मॉडल" को श्रेय दिया। वहीं भाजपा ने कहा कि दिल्ली सरकार के तहत स्थिति बेकाबू होने के बाद केंद्र ने इसे 'नियंत्रित' किया। बता दें कि दिल्ली में सोमवार को कोरोना वायरस के 954 नए मामले दर्ज किए गए थे। 
 

Next Post

प्रशासनिक सेवा संघ और सरकार के आमने-सामने

रायपुर राज्य प्रशासनिक सेवा अफसरों की सीधी भर्ती व प्रमोशन के बीच अनुपातिक अंतर को कम करने को लेकर राज्य सरकार व प्रशासनिक सेवा संघ आमने सामने आ गया है. तहसीलदार एवम नायब तहसीलदारो के प्रतिनिधि संगठन छग कनिष्ठ प्रशासनिक सेवा संघ ने राज्य सरकार को तीन पन्नों का खत […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।