कोरोना मरीजों को जांच के लिए अस्पताल जाने का एलजी ने फैसला लिया वापस

News Desk

 नई दिल्ली 
दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार के कड़े विरोध के बाद उपराज्यपाल को एक बार फिर झुकना पड़ा है। केंद्र सरकार ने आज दिल्ली के कोरोना (COVID-19) संक्रमित मरीजों को अनिवार्य रूप से स्वास्थ्य जांच के लिए कोविड केयर सेंटर जाने का अपना आदेश अब वापस ले लिया। अब डॉक्टरों की टीम मरीज घर पर देखेगी कि क्या वे होम आइसोलेशन में रह सकते हैं या उन्हें अस्पताल भेजने की जरूरत है।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को बताया कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों के क्वारंटाइन सेंटर जाने की व्यवस्था को केंद्र सरकार ने वापस ले लिया है। अब दिल्ली में फिर से वही व्यवस्था लागू हो गई है कि अगर आपको कोरोना है तो आप अपने घर पर ही रहें, वहीं आकर मेडिकल की टीम आपकी जांच करेगी।

बैठक में लिए गए निर्णय के बारे में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने कहा कि कोरोना वायरस पॉजिटिव सिर्फ उन मरीजों को जिनके पास होम आइसोलेशन के लिए पर्याप्त सुविधा नहीं है और दूसरी स्वास्थ्य समस्याएं नहीं हैं उन्हें ही कोविड केयर सेंटर में ले जाना आवश्यक होगा। 

जानकारी के अनुसार, उपराज्यपाल ने कहा कि गुरुवार को हुई दिल्ली राज्य आपदा प्रबंधन (डीडीएमए) की बैठक में कोरोना के रोगियों के होम आइसोलेशन के लिए SOP के संशोधन को मंजूरी दे दी, ताकि लोगों की जान बचाने की खातिर कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और समय पर स्वास्थ्य देखभाल के प्रावधान के दोहरे उद्देश्यों को पूरा किया जा सके।

बता दें कि, दिल्ली सरकार इस नई व्यवस्था को लेकर कड़ा ऐतराज जताया था। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसे कोविड-19 मरीजों के हिरासत में रहने के समान बताया था।

Next Post

इमरान खान को साफ संदेश, आतंकवाद के खिलाफ करें कार्रवाई: यूएन चीफ 

 नई दिल्ली  अमेरिकी रिपोर्ट में पाकिस्तान को आतंकवाद के लिए सुरक्षित पनाहगाह करार देने के बाद संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटरेज ने कहा कि वे सभी सदस्य देशों से प्रासंगिक सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत अपने दायित्वों के निर्वहन करने की उम्मीद करते हैं। गुटरेज के प्रवक्ता की […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।