कोरोना : उत्तर प्रदेश में COVID-19 के 153 नए केस आए सामने, तीन और लोगों की मौत

News Desk

 लखनऊ 
उत्तर प्रदेश में 153 नए मरीज सामने आए। इनमें अकेले आगरा के ही 65 हैं जबकि रायबरेली में मरीजों की संख्या अचानक दो से बढ़कर 33 तक पहुंच गई। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1337 तक पहुंच गई है। इनमें से 814 तब्लीगी जमात और उसके संपर्क में आए लोग हैं। प्रदेश में कोरोना से प्रभावित 53 जिले हैं। वहीं, मंगलवार को कोरोना संक्रमित दो मरीजों की मुरादाबाद और एक की अलीगढ़ में मौत हो गई। अभी तक प्रदेश में कोरोना से कुल 21 मौतें हो चुकी हैं। 

बीते 24 घंटों में आगरा में 65, लखनऊ में दो, नोएडा में दो, कानपुर में 15, मुरादाबाद में 15, वाराणसी में एक, मेरठ में छह, बुलंदशहर में तीन, बस्ती में एक, फिरोजाबाद में एक, बांदा में एक, रायबरेली में 33, औरैया में दो, बिजनौर में दो, रामपुर में एक, अमरोहा में एक और अलीगढ़ में दो के साथ 153 मरीज कोरोना वायरस संक्रमित पाए गए हैं। 

आगरा में अब तक 306 मरीज
कोरोना संक्रमित 1337 मरीजों में आगरा के 306, लखनऊ के 169, गाजियाबाद के 46, नोएडा के 102, लखीमपुर-खीरी के चार, कानपुर नगर के 75, पीलीभीत के दो, मुरादाबाद के 73, वाराणसी के 16, शामली के 26, जौनपुर के पांच, बागपत के 15, मेरठ के 81, बरेली के छह, बुलंदशहर के 21 , बस्ती के 20, हापुड़ के 17, गाजीपुर के छह,आजमगढ़ के सात, फिरोजाबाद के 59, हरदोई के दो, प्रतापगढ़ के छह, सहारनपुर के 72, शाहजहांपुर का एक, बांदा के तीन, महाराजगंज के छह, हाथरस के चार, मिर्जापुर के तीन, रायबरेली के 35, औरैया के नौ, बाराबंकी का एक, कौशाम्बी के दो, बिजनौर के 28, सीतापुर के 17, प्रयागराज का एक, मथुरा के छह, बदायूं के 13, रामपुर में 16, मुजफ्फरनगर के पांच, अमरोहा के 18, भदोही का एक, कासगंज के तीन, इटावा के दो, संभल के सात,उन्नाव का एक, कन्नौज के छह, संतकबीरनगर का एक, मैनपुरी के चार, गोंडा का एक, मऊ का एक, एटा के तीन, सुलतानपुर का एक और अलीगढ़ के दो  मरीज शामिल हैं।

सबसे ज्यादा छह मौतें हुईं आगरा में
अलीगढ़ कोरोना प्रभावित जिलों की सूची में जुड़ गया है। कौशाम्बी और हरदोई कोरोना मुक्त जिले बन गए हैं। यहां अब एक भी मरीज संक्रमित नहीं बचा है। कोरोना वायरस की वजह से अब तक सबसे ज्यादा छह मौतें आगरा में हुई हैं। मुरादाबाद में पांच मौतें हुई हैं। इसके बाद मेरठ में तीन मौतें हुई हैं। लखनऊ, वाराणसी, बस्ती, बुलंदशहर, कानपुर, फिरोजाबाद और अलीगढ़ में एक-एक मौत हुई है।

162 लोग ठीक होकर लौटे घर
अब तक 1337 मरीजों में से 162 ठीक होकर घर वापस चले गए हैं। इनमें आगरा के 18, लखनऊ के नौ, गाजियाबाद के 13, नोएडा के 43, लखीमपुर के चार, कानपुर का एक, पीलीभीत के दो, मुरादाबाद का एक, वाराणसी के छह, शामली के दो, जौनपुर के चार, मेरठ के 17, बरेली के छह, बुलंदशहर के दो, गाजीपुर के पांच, फिरोजाबाद के तीन, हरदोई के दो, प्रतापगढ़ के तीन, शाहजहांपुर का एक, महाराजगंज के छह,हाथरस के चार, बाराबंकी का एक, कौशाम्बी के दो, सीतापुर के छह और प्रयागराज का एक मरीज है।

Next Post

डिसइन्फैक्शन टनल या चैनल नही बनाने के निर्देश

 भोपाल स्वास्थ्य संचालनालय द्वारा निर्देश जारी किए है कि स्वास्थ्य संस्थाओं और कार्यालयों में डिसइन्फैक्शन टनल या चैनल नही बनाए जाएं। आयुक्त स्वास्थ्य श्री फैज अहमद किदवई द्वारा जारी आदेश में स्पष्ट किया गया है कि टनल या चैबंर में सैनेटाइजेशन के लिए सोडियम हाइपोक्लोराईड या अल्कोहल का छिड़काव किया […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।