अस्पताल कर्मी ने 10 हजार रु लेकर दिया ऑक्सीजन का खाली सिलेंडर, हुआ गिरफ्तार 

News Desk

शामली
कोरोना वायरस की मार से बेहाल उत्तर प्रदेश में योगी सरकार लोगों तक सरकारी स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने का दावा कर रही है। प्रदेश के शामली जिले में एक ऐसी घटना हुई है जिसने प्रदेश के स्वास्थ्य महकमे को शर्मसार कर दिया। यहां सरकारी अस्पताल के कर्मचारी पर आरोप है कि उसने कोरोना वायरस से पीड़ित मरीज के परिवार को दस हजार रुपए में ऑक्सीजन का खाली सिलेंडर बेच दिया। उस मरीज की कुछ घंटे बाद ही मौत हो गई। पुलिस ने शामली जिला अस्पताल में ऑपरेशन थिएटर असिस्टेंट संजय कुमार के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। जिला अस्पताल कर्मचारी संजय कुमार पर आरोप है कि उसने कोरोना पीड़ित मरीज सत्यवान सिंह के परिवार से ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए 50 हजार रुपए की मांग की। फिर गुरुवार को 10 हजार रुपए में यह सौदा तय हुआ।

 कोरोना मरीज को सिलेंडर लगाया गया लेकिन कुछ घंटे में ही उसकी मौत हो गई। मृतक सत्यवान सिंह की पत्नी ममतेश देवी ने कहा कि मेरे पति की जान बच सकती थी अगर सिलेंडर में पर्याप्त ऑक्सीजन होता। कहा कि पति की मौत होने क बाद सिलेंडर की जांच की तो वह खाली मिला। परिजनों ने इस पर अस्पताल में विरोध करते हुए हंगामा किया तो प्रशासन ने पुलिस को बुला लिया। शुरुआती जांच के बाद पुलिस ने अस्पताल कर्मचारी संजय कुमार को गिरफ्तार कर लिया। उसके खिलाफ केस में भ्रष्टाचार की धाराएं लगाई गई हैं। 

Next Post

बढ़ते संक्रमण के चलते महाराष्ट, राजस्थान, छग और यूपी से नहीं आएगी बसें, बसों पर रोक 15 मई तक बढ़ी

भोपाल कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मध्य प्रदेश सरकार ने महाराष्ट्र, राजस्थान, छग एवं उप्र के लिए बसों का संचालन 15 मई तक स्थगित करने का निर्णय लिया है। प्रदेश के परिवहन एवं राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बताया की राज्य में कोरोना वायरस के व्यापक […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।