भारत में कोरोना केस बढ़ने पर टी-20 वर्ल्ड कप का क्या होगा?  

News Desk

 नई दिल्ली 
भारत में इस समय कोरोना चरम पर है, जिसमें रोजाना आने वाले संक्रमित लोगों की संख्या 1 लाख के पार पहुंच गई है। भारत में इस साल टी-20 विश्व कप भी होने वाला है। ऐसे में लगातार केस बढ़ने पर क्या टी-20 विश्व कप में मुश्किलें आ सकती हैं। इसी सवाल पर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल(आईसीसी) के अंतरिम सीईओ ज्यॉफ एलार्डिस ने बुधवार को कहा है कि आईसीसी के पास इस साल के अंत में भारत में होने वाले टी-20 विश्व कप के लिए बैकअप योजनाएं हैं, लेकिन वर्तमान में भारत में कोरोना केस में भारी उछाल के बाद इसे देश से बाहर कहीं और ट्रांसफर करने का कोई विचार नहीं है। 

बता दें कि कोरोना के मामलों में जबरदस्त वृद्धि के बाद भी आईपीएल 2021 का आयोजन चेन्नई में शुक्रवार को खाली स्टेडियम में शुरू होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि हम निश्चित रूप से योजना के अनुसार आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पास प्लान बी है लेकिन हम उसे अभी एक्टीवेट नहीं करने वाले हैं। इसके अलावा 53 साल के पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ने कहा कि ICC अन्य खेल बोर्ड्स के साथ भी संपर्क में है ताकि यह समझ सकें कि वे कोरोना युग में कैसे मैनेज कर रहे हैं।
 
उन्होंने कहा कि हमें अगले दो महीने में विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल आयोजित करना है, जिसको लेकर हम योजना के अनुसार आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पास बैकअप के रूप में यूएई है, जहां पिछले साल आईपीएल 2021 का आयोजन किया गया था। बातचीत के दौरान,आईसीसी के अंतरिम सीईओ से डिसीजन रिव्यू सिस्टम के बारे में भी पूछा गया, जिसमें विवादास्पद अंपायर कॉल शामिल है। अंपायर कॉल की वजह से हाल ही में भारत और इंग्लैंड के बीच लिमिटेड ओवरों की सीरीज में काफी गलत फैसले देखने को मिले थे। एलार्डिस ने कहा कि हाल ही में आईसीसी बोर्ड की बैठक के दौरान डीआरएस पर एक अच्छी चर्चा हुई है।

गौरतलब है कि डीआरएस को सटीक गलतियों को पलटने के लिए डिज़ाइन किया गया था। लेकिन अभी इसमें कोई खास परिवर्तन नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि, 'मुझे लगता है कि अधिक से अधिक जब आप एक रिप्ले देखते हैं, तो स्वाभाविक प्रतिक्रिया यह है कि हम क्या कर सकते हैं। हमें एक प्वॉइंट मिला है जहां हम सही निर्णय लेने के लिए टैक्नोलॉजी का उपयोग कर रहे हैं लेकिन 'परफेक्शन (बिलकुल सही) के लिए प्रयास असंभव हो जाता है। हम अभी जहां पर हैं, वहां बहुत सहज हैं।' 

Next Post

 वापस लिया जाए दुकानें बंद करने का फैसला: उद्धव ठाकरे को अल्टीमेटम

 मुंबई  महाराष्ट्र में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों के चलते उद्धव सरकार ने बीते दिनों 30 अप्रैल तक सभी गैर-जरूरी दुकानों को बंद रखने का फैसला किया, जिसका अब विरोध किया जाने लगा है। महाराष्ट्र के व्यापारियों ने उद्धव ठाकरे को अल्टीमेटम देते हुए फैसले को वापस लेने के […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।