नस्लीय टिप्पणियों पर सख्त कानून बनाने की जरूरत-गौतम गंभीर

News Desk

नई दिल्ली
भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में खेला गया टेस्ट सीरीज का तीसरा मैच रोमांचक प्रतिस्पर्धा के साथ खिलाड़ियों पर की गई नस्लीय टिप्पणियों के कारण सुर्खियों में रहा। इस पर टीम इंडिया के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने नाराजगी जाहिर की। गंभीर ने मंगलवार को कहा कि ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में क्रिकेटरों पर नस्लवादी टिप्पणियां करने घटनाएं बहुत होती हैं और इसे रोका जाना चाहिए।

भारतीय पेसर मोहम्मद सिराज और जसप्रीत बुमराह के खिलाफ मैच के तीसरे और चौथे दिन ऐसी टिप्पणियां की गईं। भारतीय टीम ने मैदानी अंपायर से इसकी शिकायत की जिसके बाद छह दर्शकों को स्टेडियम से बाहर कर दिया गया।

गंभीर ने  कहा, ‘यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है और यह ऐसी चीज है जो किसी भी खेल में बिल्कुल स्वीकार्य नहीं है। सिर्फ क्रिकेट ही नहीं, बल्कि किसी भी खेल में, मेरा मानना है कि इसके खिलाफ सख्त कानून बनाने की जरूरत है।’

Next Post

स्वामी विवेकानंद को प्रेरणास्त्रोत मानकर राष्ट्र सेवा में लगे हुए हैं युवा साथी-राज्यपाल

रायपुर राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने आज स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ विधानसभा परिसर में स्थित स्वामी विवेकानंद जी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री चरणदास महंत, कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे, वरिष्ठ विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा और सांसद श्रीमती […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।