टी-20 विश्व कप यूएई में आयोजित किया जा सकता है 

News Desk

 नई दिल्ली 
इस साल भारत में होने वाला टी-20 विश्व कप यूएई में आयोजित किया जा सकता है, क्योंकि भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को लगता है कि कोई भी टीम उस समय यहां आने में सहज महसूस नहीं करेगी। इस बारे में अंतिम फैसला एक महीने में कर दिया जाएगा, लेकिन पता चला है कि जैव सुरक्षित वातावरण(बायो बबल) में कोविड-19 के कुछ मामले पाए जाने के कारण इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) स्थगित किए जाने के बाद बीसीसीआई भी अक्टूबर-नवंबर में होने वाले 16 टीमों के टूर्नामेंट को आयोजित करने से कतरा रहा है।

पीटीआई को पता चला है कि बीसीसीआई के अधिकारियों की हाल में केंद्र सरकार के कुछ शीर्ष अधिकारियों से चर्चा हुई तथा टूर्नामेंट को यूएई में आयोजित करने पर काफी हद तक सहमति बन गई है। यह टूर्नामेंट नौ स्थानों पर खेला जाना है जिनकी घोषणा अभी नहीं की गई है। बीसीसीआई के सूत्रों ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, 'आईपीएल का चार सप्ताह के अंदर निलंबन इस बात का संकेत है कि देश पिछले 70 सालों में अपने सबसे बुरे स्वास्थ्य संकट से जूझ रहा है, तब इस तरह की ग्लोबल प्रतियोगिता की मेजबानी करना वास्तव में सुरक्षित नहीं होगा।' उन्होंने कहा, 'भारत में नवंबर में (कोविड-19 की) तीसरी लहर आने की संभावना है। इसलिए बीसीसीआई मेजबान रहेगा लेकिन टूर्नामेंट संभवत: यूएई में आयोजित किया जाएगा।'

 

Next Post

डॉ. फौसी ने कहा- पूरे भारत में हो लॉकडाउन, सेना की मदद ले सरकार 

वाशिंगटन अमेरिका, ब्रिटेन समेत कई देशों में कोरोना वायरस की दूसरी लहर आई, लेकिन भारत जैसी भयानक स्थिति कहीं पर नहीं बनी। दुनियाभर के विशेषज्ञों ने भारत में कोरोना की स्थिति को लेकर चिंता व्यक्त की है। इसके अलावा अमेरिका के शीर्ष स्वास्थ्य विशेषज्ञ और व्हाइट हाउस के मुख्य चिकित्सा […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।