सियासी उठापटक के बीच राजस्थान कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज

News Desk

 जयपुर 
राजस्थान में कांग्रेस ने अपने पार्टी विधायक दल की बैठक मंगलवार को बुलाई है। राज्य में कांग्रेस सरकार को गिराने की कोशिशों के आरोपों के मद्देनजर पार्टी सूत्रों के बताया, बैठक मंगलवार सुबह 11 बजे जयपुर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित उस होटल में आयोजित की गई है, जिसमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार के समर्थन में सभी विधायक ठहरे हुए है। 

सूत्रों ने बताया कि बैठक का एजेंडा अभी तक स्पष्ट नहीं है। कांग्रेस विधायक दल की यह तीसरी बैठक होगी। इससे पहले पिछले सप्ताह बैठक आयोजित की गई थी। उस बैठक में उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और 18 विधायकों ने खुलेआम विद्रोह करते हुए हिस्सा नहीं लिया था। बाद में पायलट को उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के पद से हटा दिया गया था।

कांग्रेस की पीठ में छुरा घोंपा है सचिन पायलट
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निष्कासित उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को निकम्मा बताते हुए कहा कि पायलट ने कांग्रेस की पीठ में छुरा घोंपा है। गहलोत ने सोमवार को मीडिया से कहा कि पायलट को पार्टी ने बहुत कुछ दिया। उन्हें 25 वर्ष की उम्र में सांसद, 26 की उम्र में केंद्रीय मंत्री बनाया। इसी तरह करीब 30 वर्ष की उम्र में उन्हें प्रदेशाध्यक्ष बनाया गया। इसके बावजूद उन्होंने जो किया वह बहुत दुभार्ग्यपूर्ण है। 

उन्होंने कहा कि पायलट काफी समय से षडयंत्र रच रहे थे तथा 10 मार्च को यह सामने भी आ गया था। उस समय उनका षडयंत्र विफल हो गया। गहलोत ने कहा कि पायलट समर्थक विधायकों के साथ अपने पिता राजेश पायलट की मूर्ति पर माल्यार्पण करने गये, तथा वहीं से विधायकों को उन्हें दिल्ली ले जाना था। उनके षडयंत्र के बारे में मैं बताता रहा हूं, लेकिन किसी ने विश्वास नहीं किया। 

Next Post

PCB के इस फैसले से शोएब मलिक का पत्नी सानिया मिर्जा से मिलने का बढ़ा इंतजार

नई दिल्ली पाकिस्तान टीम के स्टार ऑलराउंडर शोएब मलिक का पत्नी सानिया मिर्जा से मिलने का इंतजार अब और बढ़ गया है। इसकी वजह कोरोना वायरस और लॉकडाउन की वजह से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगी पाबंदी है। भारत-पाक के इस स्टार कपल को इसी महीने मिलना था और इसके लिए […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।