संसद के मानसून सत्र में राज्यसभा सचिवालय के 83 अधिकारी हुए कोरोना वायरस से संक्रमित

News Desk

नई दिल्ली
संसद के मानसून सत्र में राज्यसभा सचिवायल के 83 अधिकारी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। राज्यसभा सचिवायल ने जानकारी देते हुए कहा है कि आज एक बैठक के दौरान राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू बताया गया है कि संसद सत्र के दौरान 83 अधिकारी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। सचिवालय ने कहा कि सभापति ने कोविड संक्रमित पाये गए अधिकारियों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने और अन्य सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।  जानकारी के मुताबिक इस बैठक में संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी, मंत्रालय में राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन और अजुर्नराम मेघवाल, राज्यसभा महासचिव देश दीपक वमार्, उप राष्ट्रपति के सचिव आई वी सुब्बाराव, संसदीय कार्य सचिव आर एस शुक्ला और राज्यसभा सचिव पी पी के रामाचायूर्लू तथा वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।  बता दें कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्यसभा बुधवार को अनिश्चितकालीन समय के लिए स्थगित हो गया संसद का मॉनसून सत्र अपने निर्धारित समय से करीब आठ दिन पहले ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गया। छोटी सी अवधि होने के बावजूद राज्यसभा में सत्र के दौरान 25 विधेयकों को पारित किया गया, जबकि हंगामे के कारण आठ विपक्षी सदस्यों को रविवार को शेष सत्र के लिए निलंबित कर दिया गया।

सभापति एम वेंकैया नायडू ने सत्र को अनिश्चित काल के लिए स्थगित करने से पहले अपने पारंपरिक संबोधन में कहा इस सत्र के दौरान 104.47 प्रतिशत कामकाज हुआ। उन्होंने कहा कि इस दौरान विभिन्न मुद्दों पर व्यवधान के कारण जहां सदन के कामकाज में तीन घंटों का नुकसान हुआ वहीं सदन ने तीन घंटे 26 मिनट अतिरिक्त बैठकर कामकाज किया। उन्होंने कहा कि पिछले चार सत्रों के दौरान उच्च सदन में कामकाज का कुल प्रतिशत 96.13 फीसदी रहा है।

 

Next Post

खर्च को लेकर 10 में से नौ भारतीय सतर्क, कोरोना का प्रसार बढ़ने और रोजगार को लेकर चिंतित

मुंबई  कोरोना वायरस संक्रमण में लगातार बढ़ते मामलों के साथ रोजगार और आर्थिक पुनरूद्धार को लेकर एक अनिश्चितता पैदा हो रही है और इसका असर खर्च पर भी दिख रहा है। एक सर्वे में देश में 10 में से 9 लोगों ने इसको लेकर चिंता जतायी और आने वाले समय […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।