26 जनवरी को बांग्लादेश सशस्त्र बल के 122 जवान लेंगे परेड में हिस्सा 

News Desk

नई दिल्ली
बांग्लादेशी सेना के ये जवान भारतीय वायुसेना के स्पेशल सी-17 एयरक्राफ्ट से भारत पहुंचे हैं। मंगलवार शाम 5.30 बजे भारतीय वायुसेना का विमान बांग्लादेश से साढ़े तीन घंटे का सफर तय करके भारत पहुंचा है।पाकिस्तान से अलग होने के 50 साल पूरे होने के मौके पर बांग्लादेश सशस्त्र बल के 122 जवान भारत पहुंचे हैं। ये सभी जवान 26 जनवरी को होने वाली परेड में हिस्सा लेंगे। पाकिस्तान से अलग होने की 50वीं वर्षगांठ के मौके पर बांग्लादेशी सेना के ये जवान परेड में हिस्सा लेंगे। इस बाबत भारतीय वायुसेना की ओर से ट्वीट करके भी जानकारी दी गई है।

भारतीय सेना की ओर से किए गए ट्वीट में कहा गया है कि बांग्लादेश आर्म्ड फोर्सेस के 122 सदस्य भारत के गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लेने के लिए रवाना हो चुके हैं। हम एक साथ लड़े और हम एक साथ मार्च करेंगे। 26 जनवरी को शानदार परेड का हिस्सा बनिए। बता दें कि पिछले महीने मोदी सरकार ने 1971 बांग्लादेश लिबरेशन की 50वीं वर्षगांठ को मनाने का फैसला लिया था, इसे गोल्डन जुबिली वर्ष के तौर पर भारत मनाएगा। बता दें कि 16 दिसंबर 1971 को ही पाकिस्तान की सेना ने भारत के सामने अपने हथियार डाले थे, 16 दिसंबर 2020 को इस घटना की वर्षगांठ मनाई गई थी। 

इस मौके पर पीएम मोदी ने दिल्ली के नेशनल वॉर मेमोरियल पर स्वर्णिम विजय मशाल को प्रज्वलित किया था और गोल्डन जुबिली सेलिब्रेशन की शुरुआत की थी। इस वर्षगांठ को मनाने के लिए अलगःअलग कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे जिसमे वॉर वेटरन हिस्सा लेंगे। सेमिनार और बैंड का भी आयोजन किया जाएगा। इसके अलावा पिछले महीने रक्षा मंत्रालय ने चार मशाल को देश के अलग-अलग हिस्सों में ले जाने का भी फैसला लिया है। इस मशाल को परम वीर चक्र और महा वीर चक्र विजेता जवानों के गांव भी ले जाया जाएगा।

Next Post

दमोह में नाबालिग भाई-बहन के साथ पुलिस ने मारपीट की

   दमोह अक्सर अपने काम करने के तरीके को लेकर विवादों में रहने वाली पुलिस का एक बार फिर अमानवीय चेहरा सामने आया है। मंगलवार रात को एमपी में दमोह जिले के मड़ियादो गांव में नाबालिग भाई-बहन के साथ पुलिस पर दुर्व्यवहार का आरोप लगा है। दोनों नाबालिगों और प्रत्यक्षदर्शियों […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।