हैदराबाद का नाम ‘भाग्‍यनगर’ करने पर जुबानी जंग, असदुद्दीन ओवैसी का योगी आदित्‍यनाथ पर पलटवार

News Desk

हैदराबाद
हैदराबाद नगर निकाय चुनाव में उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी के बीच हैदराबाद के नाम को बदलने को लेकर जुबानी जंग तेज हो गई है। योगी आदित्‍यनाथ के हैदराबाद का नाम बदलकर भाग्‍यनगर करने के बयान पर ओवैसी ने शनिवार को जोरदार पलटवार किया। ओवैसी ने कहा कि उनका नाम बदल जाएगा, उनकी नस्‍लें तबाह हो जाएंगी लेकिन हैदराबाद का नाम नहीं बदलेगा। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, ' जो शख्स (योगी आदित्‍यनाथ) हैदराबाद का नाम बदलना चाहता है, उनकी नस्लें तबाह हो जाएगी लेकिन इस शहर का नाम नहीं बदलेगा। हम अली के नाम लेवा हैं। हम तुम्हारा नाम तब्दील कर देंगे। मैं आप लोगों (मतदाताओं) को वास्ता देता हूं कि आप लोगों को जवाब देना होगा उन लोगों को जो शहर का नाम बदलना चाहते है।' उन्‍होंने कहा कि बीजेपी हर चीज बदलना चाहती है। यूपी के मुख्‍यमंत्री आपने नाम बदलने का ठेका ले रखा है क्‍या?

'अब केवल डोनाल्‍ड ट्रंप का आना बाकी है'
एआईएमआईएम चीफ ने कहा कि बीजेपी ने हैदराबाद के नगर निकाय चुनाव में इतने नेताओं को बुला लिया है कि अब केवल डोनाल्‍ड ट्रंप का आना बाकी है। ओवैसी ने कहा कि चाहे ट्रंप भी क्‍यों न आ जाएं, कुछ भी नहीं होगा। पीएम मोदी ने ट्रंप का हाथ पकड़कर कहा था कि अबकी बार ट्रंप सरकार लेकिन ट्रंप भी गड्ढे में गिर गए। ओवैसी ने जिन्‍ना को लेकर भी बीजेपी पर हमला बोला।

'हैदराबाद का प्राचीन नाम भाग्यनगर क्यों नहीं ?'
ओवैसी ने कहा कि बीजेपी के लोग लाख जिन्‍ना-जिन्‍ना कह लें लेकिन हमने जिन्‍ना की मोहब्‍बत को ठुकराया है। उन्‍होंने दावा किया कि एक दिसंबर को जनता मजलिस को वोट देकर बीजेपी को जोरदार तमाचा मारेगी। इससे पहले हैदराबाद में रोड शो के दौरान सीएम योगी ने कहा था कि हमने फैज़ाबाद का नाम अयोध्या किया। हमने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया। ये हमारे संस्कृति के प्रतीक हैं। तो हैदराबाद का प्राचीन नाम भाग्यनगर क्यों नहीं हो सकता। सीएम योगी ने बिहार में जीते एआईएमआईएम के विधायक के शपथ ग्रहण का जिक्र करते हुए ओवैसी पर जमकर निशाना साधा। योगी ने ओवैसी की पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि जो लोग हिंदुस्तान में रहते हैं, वह हिंदुस्तान का नाम शपथ में नहीं लेते। ये घटना दिखाती है कि ओवैसी की एआईएमआईएम का असली चेहरा क्या है। इस तरह हैदराबाद नगर निगम चुनाव ओवैसी और बीजेपी नेताओं के बीच जंग का मैदान बन गया है।

Next Post

ब्रिटिश सैनिक क्यों तैनात हैं सऊदी अरब में ? आखिर किस 'संकट' से डरे हैं प्रिंस सलमान

रियाद यमन के हूती विद्रोहियों के हमलों ने सऊदी अरब को परेशान कर रखा है। तेल के कुओं और पेट्रोलियम संयंत्रों पर लगातार किए जा रहे हमलों से परेशान प्रिंस सलमान ने ब्रिटिश सेना की मदद ली है। द इंडिपेंडेंट ने रक्षा प्रवक्ता के हवाले से रिपोर्ट में लिखा है […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।