सीतामढ़ी: भिठ्ठामोड़ में भारत-नेपाल सीमा के नो-मेंस लैंड पर बनेगा इंटीग्रेटेड चेकपोस्ट

News Desk

मुजफ्फरपुर
बिहार के सीतामढ़ी के भिठ्ठामोड़ में भारत-नेपाल सीमा के नो-मेंस लैंड पर एक इंटीग्रेटेड चेकपोस्ट का निर्माण होगा। इसके लिए सर्वे शुरू हो चुका है। गृह मंत्रालय के निर्देश पर एक केंद्रीय एजेंसी भारत की ओर से सर्वे कर रही है। बताया जाता है कि सर्वे में नेपाल सरकार के भी कर्मचारी शामिल हैं। ​एसएसबी के सेक्टर डीआईजी के रंजीत ने इसकी पुष्टि की है। कहा कि इंटीग्र्रेटेड चेकपोस्ट के निर्माण के लिए सर्वे का काम बड़े पैमाने पर हो रहा है। सर्वे पूरा होने के बाद चेकपोस्ट का निर्माण दोनों देशों की सहमति के बाद होगा। मालूम हो कि बिहार में दूसरा इंटीग्रेटेड चेकपोस्ट होगा, जो भारत-नेपाल की सीमा पर होगा। इससे पहले रक्सौल में इंटीग्रेटेड चेकपोस्ट है, जहां से अंतरराष्ट्रीय व्यापार के लिए नेपाल में प्रवेश किया जाता है। ​

नो-मेंस लैंड में निर्माण पर थमेगा विवाद 
इंटीग्रेटेड चेकपोस्ट का निर्माण होने से भिठ्ठामोड़ में उपजा विवाद भी थम जाएगा। निर्माण के बाद नो-मेंस लैंड के बीच हो रहे निर्माण पर भी गतिरोध थम जाएगा। इसपर कॉरिडोर बनेगा, जिससे भारत और नेपाल के बीच अंतरराष्ट्रीय व्यापार बढ़ेगा। ​

अवैध व्यापार पर भी कसेगा शिकंजा
चेकपोस्ट के निर्माण के बाद भिठ्ठामोड़ और इसके आसपास के इलाके में अवैध व्यापार पर प्रशासन का नियंत्रण रहेगा। भारत-नेपाल का बॉर्डर खुला होने की वजह से कई तरह के अवैध व्यापार होते हैं, जिसपर शिकंजा कसा जा सकेगा।

Next Post

बिहार: सोन नदी में डूबकर एक परिवार के चार बच्चों की दर्दनाक मौत

अरवल बिहार के अलवर सदर थाना क्षेत्र के मल्हीपट्टी गांव के समीप सोन नदी में डूब जाने से चार भाई-बहनों की मौत हो गई। घटना रविवार अपराह्न करीब दो बजे की है। मृतकों में मल्हीपट्टी गांव निवासी गौहर अली की नौ वर्षीया बच्ची आशिमा परवीण, सात वर्षीय बेटा असगर अली, […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।