रूसी कोरोना वैक्सीन पर सवाल, दोगुने हुए बैंक फ्रॉड 

News Desk

 
नई दिल्ली 

दुनिया कोरोना वैक्सीन का इंतज़ार कर रही है. भारत भी कर रहा है.  ब्राज़ील और अमेरिका के बाद भारत में कोरोना के मामले सबसे ज़्यादा हैं. इस वक्त सौ से ज़्यादा वैक्सीन अपने शुरूआती स्टेज पर हैं जिनमें बीस से ज़्यादा ऐसी हैं जिनका प्रयोग इंसानों पर हो रहा है. भारत की नज़र सभी पर है.. और तो और अब तो ख़बर आई है कि रूसी वैक्सीन स्पूतनिक को लेकर भी बातचीत चल रही है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा है कि इस पर दोनों देश संपर्क में हैं, लेकिन बड़ी बात ये है कि इस रूसी वैक्सीन पर गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं. 

मॉस्को में विकसित की गई इस वैक्सीन के ट्रायल का सेफ्टी डेटा अब तक जारी नहीं हुआ है. ऐसे में भारत इसकी प्रामाणिकता को लेकर कैसे भरोसा करेगा? लोगों में कैसे विश्वास पैदा करेगा कि ये दवाई उन्हें ठीक कर देगी? ऐसे ही तमाम सवालों का जवाब दे रही हैं आजतक रेडियो रिपोर्टर मिलन शर्मा, साथ ही बता रही हैं कि भारत की देसी वैक्सीन का काम कहां तक पहुंचा?

उधर बैंक फ्रॉड के मामले अब कोई चौंकाने वाली बात नहीं रह गए हैं. ये धांधलियां होती रहती हैं. आरबीआई हर साल ऐसी ही आर्थिक धांधली पर रिपोर्ट जारी करता है जिसमें बताया जाता है कि कितनी रकम धोखाधड़ी से डकार ली गईं. इस साल का हिसाब किताब भी आ गया है.  2018-19 के मुकाबले बैंक फ्रॉड के मामले 2019-20 में दो गुने से ज़्यादा हो गए हैं. लोन फ्रॉड की कुल रकम 1.85 लाख करोड़ रुपए में सरकारी बैंक की हिस्सेदारी 80 फीसदी रही और प्राइवेट बैंकों की 18 फीसदी. इस रिपोर्ट के सारे अहम हिस्सों पर रौशनी डाल रहे हैं बिज़नेस टुडे के सीनियर एडिटर दीपक मंडल.

इस बार के अमेरिकी चुनाव में भारतवंशी अहम रोल निभानेवाले हैं. एक तरफ तो डेमोक्रेटिक पार्टी ने अपना उप राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार कमला हैरिस को बनाया है तो दूसरी तरफ रिपब्लिकन पार्टी ने निक्की हेली को प्रचार के लिए मैदान में उतारा है. वो ट्रंप की स्टार प्रचारक होंगी. रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन में निक्की ने कहा कि मैं भारतीय प्रवासियों की बेटी हूं और मुझे इस पर गर्व है. तो अब जैसे भारत में अलग अलग वोट बैंक हासिल करने के लिए पार्टियां रणनीति बनाती हैं लगता है वैसी ही कुछ रणनीति अमेरिकी पार्टियां भी बना रही हैं लेकिन क्या वाकई अमेरिका में भारत से जुड़े लोगों की तादाद उतनी है कि वो इन इलेक्शंस को कोई दिशा दे सकते हैं? इस पर बारीकी से जानकारी दे रहे हैं इंडो-यूएस रिलेशंस के जानकार निशांत से.

आपके पास स्मार्टफोन है तो उस फीचर का भी इस्तेमाल करते होंगे जिसमें अपने फिंगरप्रिंट से ऐप्लीकेशंस ओपन की जाती हैं. सेफ्टी के लिहाज से ये फीचर हम सभी को बहुत पसंद है मगर अब यही फीचर आपके डेटा को अनसेफ बना रहा है.  कई ऐसे ऐप्स आ गए हैं जो फिंगरप्रिंट सेंसर के ज़रिए हमारा डेटा को चुराने में जुटे हैं. ऐसे में इसके क्या ख़तरे हो सकते हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है यही समझा रही हैं आजतक रेडियो रिपोर्टर मनोज्ञा लोइवाल. और ये भी जानिए कि 26 अगस्त की तारीख इतिहास के लिहाज़ से अहम क्यों है.. क्या घटनाएं इस दिन घटी थीं. अख़बारों का हाल भी पांच मिनटों में सुनिए और खुद को अप टू डेट कीजिए. इतना कुछ महज़ आधे घंटे के न्यूज़ पॉडकास्ट 'आज का दिन' में नितिन ठाकुर के साथ.  

Next Post

लद्दाख तक पहुंचने के लिए भारत बना रहा 290 किमी. नई सड़क, भारी हथियार और सैनिकों का जाना होगा आसान

नयी दिल्ली चीन के साथ सीमा विवाद (India-China Border Tension) के बीच भारत ने हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के दारचा से लद्दाख को जोड़ने वाले रणनीतिक मार्ग पर काम तेज कर दिया है। आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि करीब 290 किलोमीटर लंबी यह […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।