राज्यसभा में विदेश मामलों की स्थाई समिति के सदस्य बने पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई

News Desk

नई दिल्ली
भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) राज्यसभा में विदेश मामलों संबंधी स्थायी समिति के सदस्य बन गए हैं। राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू (Venkaiah Naidu) ने नवनिर्वाचित सदस्यों को उनके शपथ ग्रहण के अगले ही दिन संसद के उच्च सदन की विभिन्न विभाग संबंधी स्थायी समितियों का सदस्य नामित कर दिया। बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) को मानव संसाधन विकास संबंधी स्थायी समिति का सदस्य बनाया गया जबकि कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) को शहरी विकास संबंधी समिति के सदस्य के रूप में नामित किया गया।

पवार, खड़गे, हरिवंश, देवगौड़ा भी नामित
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सांसद शरद पवार (Sharad Pawar) रक्षा संबंधी समिति के सदस्य बनाए गए हैं। वरिष्ठ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) को वाणिज्य संबंधी समिति, लोकसभा के पूर्व उपाध्यक्ष एम थम्बी दुरई को मानव संसाधन विकास संबंधी समिति और राज्यसभा (Rajya Sabha) के पूर्व उप सभापति हरिवंश को कृषि संबंधी समिति के सदस्य के रूप में नामित किया गया है। राज्यसभा के सदस्य के रूप में शपथ ग्रहण करने वाले पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा को रेल संबंधी समिति जबकि भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को विदेश मामलों संबंधी स्थायी समिति का सदस्य नामित किया गया।

बीजेपी सांसदों को भी मिली जिम्मेदारियां
बीजेपी नेता विनय सहस्रबुद्धे (Vinay Shasrabuddhe) को पूर्व सांसद सत्यनारायण जटिया के स्थान पर मानव संसाधन विकास संबंधी समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। जटिया का कार्यकाल समाप्त होने के बाद यह नियुक्ति हुई है। इसके साथ ही जिन सदस्यों ने 22 जुलाई को हुए शपथ ग्रहण समारोह के दौरान पद एवं गोपनीयता की शपथ ली है वे इन समितियों की बैठकों में शामिल हो सकेंगे। राज्यसभा के लिए नवनिर्वाचित 61 सदस्यों में से 45 ने बुधवार को पद एवं गोपनीयता की शपथ ली थी। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक शेष 16 सदस्य शपथ ग्रहण के बाद ही समिति की बैठकों में हिस्सा ले सकेंगे।

कुल 65 सदस्यों को किया नामित
सभापति नायडू ने कुल मिलाकर 65 सदस्यों को विभिन्न समितियों के लिए नामित किया है। इनमें कुछ मौजूदा सदस्य भी हैं। जिन अन्य सदस्यों को विभिन्न समितियों के लिए नामित किया गया है उनमें भुबनेश्वर कलिता (मानव संसाधन विकास), जी के वासन (मानव संसाधन विकास), सुब्रत बख्शी, राम चंदर जांगरा, अल्ला अयोध्या रामी रेड्डी और सुमेर सिंह सोलंकी (सभी शहरी विकास), प्रियंका चतुर्वेदी, दीपक प्रकाश, मौसम नूर (सभी वाणिज्य), के टी एस तुलसी, नबम रेबिया, जे एम लोखंडवाला, सुधांशु त्रिवेदी, अजीत कुमार भूयां, मुजिबुल्ला खान (सभी ऊर्जा), दिनेश त्रिवेदी (गृह) और उदयन राजे भोंसले, नरहरि अमीन और फूलो देवी नेताम (सभी रेल) शामिल हैं।

शीबू सोरेन भी बने समिति के सदस्य
प्रेम चंद गुप्ता और राजीव सातव को रक्षा संबंधी स्थायी समिति का सदस्य बनाया गया है जबकि तिरुची शिवा और के सी वेणुगोपाल को परिवहन, पर्यटन और संस्‍कृति संबंधी समिति का सदस्य नामित किया गया है। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री शीबू सोरेन और एम वेंकटरामन राव को कोयला एवं इस्पात संबंधी स्थायी समिति का सदस्य बनाया गया है।

Next Post

खुशी के दुखी पिता ने बेटी की मौत पर हत्या की आशंका जताया...कोतरा रोड पुलिस ने SDM से अनुमति लेकर कब्र से निकाली लाश...

रायगढ़ एक मजबूर पिता ने अपनी मासूम बच्ची की मौत पर हत्या की आशंका जता कर प्रशासन से मदद माँगा है रायगढ़ कोतरा रोड थाना प्रभारी युवराज़ तिवारी ने भी इस घटना को गंभीरता से लेते हुए एसडीएम से मिली अनुमति के बाद दफन लाश को बाहर निकाल पोस्टमार्टम करवा […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।