पुलवामा में सड़क किनारे मिली IED, बम स्क्वाड ने किया डिफ्यूज 

News Desk

जम्मू
कश्मीर घाटी में आतंकियों के खिलाफ सेना का ऑपरेशन तेजी से जारी है। जिसमें कई बड़े कमांडर मारे गए। जिस वजह से अब आतंकियों ने छिपकर वार करना शुरू कर दिया है। शुक्रवार को सुरक्षाबलों ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में एक इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) बरामद किया। हालांकि बाद में उसको सुरक्षित तरीके से डिफ्यूज कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों की रोड ओपनिंग पार्टी शुक्रवार सुबह पुलवामा के रास्तों की जांच कर रही थी। इस दौरान सर्किल रोड पर उन्हें एक अज्ञात चीज दिखी, जो कार्बन पेपर से लपेटी गई थी। साथ ही उसमें से कुछ तार दिख रहे थे। इस पर जवानों ने तुरंत इलाके को घेरकर बम निरोधक दस्ते को बुलाया। बाद में जांच करने पर वो संदिग्ध चीज आईईडी निकली। इसके बाद उसे सुरक्षित तरीके से डिफ्यूज कर दिया गया। 

ज्वॉइंट ऑपरेशन जारी महीने में दूसरी घटना आतंकी आमने-सामने की लड़ाई में हार के बाद से बौखलाए हुए हैं। जिस वजह से वो आईईडी के जरिए सुरक्षाबलों को निशाना बनाना चाहते हैं। 14 अप्रैल को पुलवामा जिले के कामराजपुरा के बागात में भी आतंकियों ने एक आईईडी छिपाकर रखी थी। जिस पर सेना की 53 राष्ट्रीय राइफल्स और पुलवामा पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन शुरू किया और आईईडी बरामद कर उसे डिफ्यूज कर दिया। त्राल में आतंकी ठिकाना ध्वस्त वहीं दो दिन पहले सेना, पुलिस और सीआरपीएफ ने हिजबुल के गढ़ त्राल में एक ऑपरेशन शुरू किया था। इस दौरान कमला वन क्षेत्र में सुरक्षाबलों के हाथ एक आतंकी ठिकाना लगा। जिसमें काफी आपत्तिजनक सामग्रियां बरामद हुईं। जिसे नष्ट करते हुए पुलिस ने सारा सामान जब्त कर लिया। साथ ही अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
 

Next Post

यूपी में चलता रहेगा आंधी-पानी का सिलसिला 

 लखनऊ  पश्चिमी विक्षोभ और चक्रवातीय दबाव के चलते उत्तर प्रदेश में आने वाले दिनों में आंधी-पानी का सिलसिला बना रहेगा। मौसम निदेशक जेपी.गुप्त के अनुसार वैसे तो यह पश्चिमी विक्षोभ मई के महीने में सक्रिय होते थे जो मानसून आने से पहले तक चलते थे मगर इस बार इनकी शुरुआत […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।