पीएम मोदी ने बंगाल हिंसा पर जताई चिंता 

News Desk

कोलकाता
पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद जारी हिंसा को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने भी चिंता जताई है। पीएम मोदी ने फोन पर बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ से हाल ही में तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा कथित रूप से हिंसा और पूर्वी राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर बात की। उधर गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से इस मामले में रिपोर्ट मांगी हैं। वहीं बंगाल में जारी हिंसा के दौर के बीच भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह को टालने की मांग की है। श्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मंगलवार दोपहर ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है। 

राज्यपाल ने ट्वीट कर कहा, 'पीएम ने फोन किया और गंभीर रूप से चिंताजनक कानून और व्यवस्था की स्थिति पर अपनी गंभीर पीड़ा और चिंता व्यक्त की। सीएम ममता बनर्जी से मैं गंभीर चिंताओं को साझा करता हूं। राज्य में हिंसा बर्बरता, आगजनी, लूट और हत्याएं बेरोकटोक जारी हैं। इस पर नियंत्रण बहुत ही जरूरी है। राज्य में कानून व्यवस्था को संभालने के लिए तत्काल एक्शन लिए जाने की जरूरत है। इससे पहले राज्यपाल ने मंगलवार को पुलिस महानिदेशक पी नीरजनयन और कोलकाता पुलिस कमिश्नर सोमेन मित्रा से तत्काल रिपोर्ट तलब किया था। 

मंगलवार को डीजी और सीपी ने राज्यपाल से मुलाकात कर कार्रवाई का आश्वासन दिया था। उसके बावजूद भी हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। इस बीच बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और महासचिव भूपेंद्र यादव सोमवार को बंगाल पहुंच रहे हैं। दोनों नेता राज्य में राजनीतिक हिंसा में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ताओं के परिजनों से मुलाकात करेंगे। इससे पहले बीजेपी की ओर से हिंसा पर चिंता जताते हुए कहा गया था कि यह लोकतंत्र की हत्या करने जैसा है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
 

Next Post

नंदीग्राम में शुभेंदु की ही जीत ,दोबारा गिनती की मांग खारिज

कोलकाता पश्चिम बंगाल की नंदीग्राम सीट से हार के बाद टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी को एक और बड़ा झटका लगा है। अपने पूर्व सहयोगी से नजदीकी मुकाबले में हार के बाद वोटों की दोबारा गिनती की उनकी मांग को खारिज कर दिया गया है। चुनाव आयोग ने कहा है कि […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।