नवविवाहित डॉक्टर कपल ने की खुदकुशी

News Desk

पुणे
कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई में हमारे डॉक्टर्स और स्वास्थ्य कर्मचारी दिन रात कड़ी मेहनत कर मरीजों की जान बचाने में लगे हुए हैं। इस समय देश के लिए स्वास्थ्य कर्मी किसी सुपर हीरो से कम नहीं है। इसी क्रम में आज पूरे देश में बड़े ही धूमधाम के साथ डॉक्टर्स डे मनाया जा रहा है। ऐसी स्थिति में जब हर तरफ से मायूसी की खबरें सामने आ रही हैं, उस समय डॉक्टरों का दुनिया से जाना और अधिक पीड़ादायक हो जाता है। महाराष्ट्र के पुणे से ऐसी ही एक दर्दनाक घटना सामने आई है यहां एक डॉक्टर दंपति ने किसी बात पर बहस के चलती अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। 

डॉक्टर पति-पत्नी के मौत से मचा हड़कंप दिल की झकझोर देने वाली यह घटना पुणे के वनवाणी थाना क्षेत्र के आजाद नगर की बताई जा रही है। यहां पहले डॉक्टर पत्नी ने फांसी के फंदे से लटककर अपनी जान दे दी, उसके कुछ घंटे बाद ही महिला के चिकित्सक पति ने भी खुदकुशी कर ली। इस घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मचा हुआ है, हालांकि पुलिस अभी इस बात का पता नहीं लगा सकी है कि पति-पत्नी ने किस वजह से खुदकुशी की। यूरोप में एक बार फिर बढ़े कोरोना के केस, WHO ने दी नई लहर की चेतावनी पहले पत्नी ने लगाई फांसी पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक मृतकों की पहचान अंकिता निखिल शेंडकर (26) और निखिल दत्तात्रेय शेंडकर (28) के रूप में हुई है। युवा दंपति अलग-अलग जगह प्रैक्टिस करते थे और एक घर में साथ रहते थे। 

बताया जा रहा है कि आजाद नगर के ही गली नंबर-2 में स्थित एक क्लिनिक में प्रैक्टिस करने वाली अंकिता की अपनी पति निखिल से फोन पर किसी बात को लेकर बहस हो गई थी। बुधवार की रात करीब 8 बजे जब निखिल घर पहुंचा तो अंकिता को फांसी के फंदे से लटका पाया।
 

Next Post

गाड़ी और घर नहीं मिला अच्छा तो नीतीश सरकार में मंत्री मदन साहनी ने की इस्तीफे की घोषणा

पटना  बिहार की नीतीश कुमार सरकार को बड़ा झटका लगा है। बिहार सरकार के समाज कल्याण मंत्री मदन साहनी ने इस्तीफे की घोषणा कर दी है। साहनी ने नौकरशाही से नाराजगी जाहिर करते हुए यहां तक कहा है कि उन्हें गाड़ी और घर अच्छा नहीं मिला। साहनी ने कहा कि […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।