त्रिपक्षीय मालाबार नौसैनिक अभ्यास में हिस्सा लेने ऑस्ट्रेलिया आमंत्रित

News Desk

नई दिल्ली
पूर्वी लद्दाख में चीन (China) के साथ चल रहे सैन्य टकराव के बीच भारत (India) ने सोमवार को औपचारिक रूप से अमेरिका और जापान के साथ त्रिपक्षीय मालाबार नौसैनिक अभ्यास में हिस्सा लेने के लिए ऑस्ट्रेलिया को आमंत्रित किया है। पिछले चार दशकों में बीजिंग और नई दिल्ली के बीच सीमा पर सबसे खराब तनाव में हुए हुए हैं। ऐसे में पहली बार क्षेत्रीय समूह के सभी सदस्य जिन्हें क्वाड के रूप में जाना जाता है, उनके साथ नौसैनिक अभ्यास के लिए ऑस्ट्रेलिया को इसमें शामिल करने का निर्णय लिा गया है।

यह मालाबार नौसैनिक अभ्यास वर्ष के अंत में बंगाल की खाड़ी में भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका की नौसेनाओं के साथ किया जाएगा। इसमें शामिल होने के लिए ऑस्ट्रेलिया को भी आमंत्रित किया गया है। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "भारत समुद्री सुरक्षा क्षेत्र में अन्य देशों के साथ सहयोग बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। इसी के मद्देनजर ऑस्ट्रेलिया के साथ रक्षा सहयोग बढ़ाने के लिए मालाबार 2020 में ऑस्ट्रेलियाई नौसेना को आमंत्रित किया है। जल्द उनकी भागीदारी देखने को मिलेगी।"

बयान में कहा गया है कि इस साल की कवायद में ‘गैर-संपर्क – समुद्र में’ प्रारूप पर योजना बनाई गई है। मंत्रालय ने कहा, "अभ्यास में भाग लेने वाले देशों की नौसेनाओं के बीच समन्वय मजबूत होगा।" बयान में कहा गया कि इससे क्वाड राष्ट्र समुद्री डोमेन में सुरक्षा और मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

बता दें, 2007 में मालाबार नौसैनिक अभ्यास में भाग लेने के लिए जब भारत-अमेरिका ने जापान, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर को भी शामिल करने की बात कही थी तब चीन में इस पर आपत्ति जताई थी।

Next Post

गंगोत्री इंटरप्राइजेज पर सीबीआई का छापा

    लखनऊ    1500 करोड़ के बैंक लोन घोटाले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की छापेमारी जारी है. गंगोत्री इंटरप्राइजेज के नोएडा,लखनऊ, गोरखपुर के ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है. कंपनी पर बैंक लोन हड़प करके दूसरी जगह निवेश करने का आरोप है. बताया जा रहा है कि गंगोत्री […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।