गहलोत सरकार कर सकती है सीबीआई जांच की अनुशंसा SHO आत्महत्या केस में

News Desk

जयपुर

राजस्थान में चुरू जिले के राजगढ़ के एसएचओ विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीबीआई समेत किसी भी एजेंसी से जांच की सहमति दे दी है. परिवार वालों की जांच की मांग पर सीएम सहमत हो गए हैं. चुरू के राजगढ़ थाना प्रभारी विष्णुदत्त विश्नोई ने आत्महत्या कर ली थी.

मुख्यमंत्री आवास पर हुई उच्च स्तरीय बैठक में सोमवार को जांच का फैसला लिया गया. राज्य सरकार किसी अन्य पुलिस अधिकारी को जांच टीम में शामिल कर सकती है. प्रकरण की सीबीआई और न्यायिक जांच कराने के लिए सरकार सैद्धांतिक रूप से सहमत है. बताया जा रहा है कि सरकार मामले की सीबीआई जांच की भी अनुशंसा कर सकती है.

परिवार के लोग जो भी इस मामले में एकमत होकर सुझाव देंगे राज्य सरकार उस पर कार्रवाई करने के लिए तैयार है. बैठक में मुख्यमंत्री ने पूरे प्रकरण की की समीक्षा. मीटिंग में मुख्य सचिव डी बी गुप्ता, एसीएस होम राजीव स्वरूप, डीजीपी भूपेंद्र सिंह और एडीजी बीएल सोनी मौजूद थे.

इससे पहले, राजस्थान में जोधपुर जिले के बिलाड़ा निवासी वरिष्ठ अधिवक्ता नारायण सिंह राठौड़ सीरवी उर्फ गोल्डन मैन की हत्या का मुख्य आरोपी उमेश सोनी कोरोना पॉजिटिव पाया गया था. आरोपी के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया था.

पकड़े जाने के बाद इस आरोपी के संपर्क में कई पुलिस अधिकारी रहे. इसके कोरोना पॉजिटिव आने से सभी में खलबली मच गई. गौरतलब है कि गोल्डन मैन की हत्या और सवा किलो से अधिक सोना लूटने की वारदात का सोजत सिटी थाना पुलिस ने शुक्रवार को ही पर्दाफाश किया था.

Next Post

दो महीने में लॉकडाउन के रिकॉर्ड राशन बांटकर उत्तर प्रदेश ने देश में बनाया कीर्तिमान

 लखनऊ  कोरोना संकट के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार ने लॉकडाउन के दो महीने में 29.66 लाख मीट्रिक टन से ज्यादा राशन का वितरण कर पूरे देश में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है। लॉकडाउन में जिस वक्त गरीब तबका इस बात को लेकर चितिंत था कि उसके भोजन की व्यवस्था […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।