कोलकाता में 60 साल पुराना पुल गिरा ,कईयों के दबे होने की आशंका ,एक शव निकाला गया

News Desk

कोलकाता । कोलकाता के माझेरहाट में एक पुल गिर गया है। जानकारी के मुताबिक, पुल के मलबे के नीचे बहुत सारे लोग और गाड़ियां दबी हुई हैं। ये पुल 60 साल पुराना है और कोलकाता से बेहाला को जोड़ता है. बताया जा रहा है कि 8 से 10 लोग मलबे में दबे हो सकते हैं. घटनास्थल की तस्वीरें बेहद विचलित करने वाली है. कई कारें बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई हैं और पुल तहस नहस नजर आ रहा है.

करीब 60 साल पुराना यह पुल कोलकाता से बेहाला को जोड़ता है. कई दिनों से पुल की मरम्मत का काम चल रहा था. ब्रिज के नीचे रेलवे ट्रैक भी है, जिससे लोकल ट्रेनें गुजरती हैं. हादसे में घायल छह लोगों को एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बता दें कि दो साल पहले कोलकाता में एक निर्माणाधीन पुल ढह गया था, जिसमें 20 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी.

मरने वालों की सूचना अभी सामने नहीं आई है लेकिन घटना की वीभत्सता बहुत ज्यादा बताई जा रही है। डिजास्टर मैनेजमेंट की टीम राहत और बचाव कार्य कर रही है कहा जा रहा है कि घटनास्थल के पास में सेना का कैंप भी है। उनसे भी मदद मांगी गई है।अभी तक यह घायलों या मरनेवालों की संख्या के बारे में कोई पुष्टि नहीं हो पाई है। पुल के नीचे एक मिनी बस के भी फंसे होने की बात सामने आ रही है।

हादसे के बाद बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है. राहत कार्य के लिए सेना को नहीं बुलाया गया है, लेकिन हादसा उसके क्षेत्र के बेहद करीब हुआ है. इसलिए आर्मी फील्ड हॉस्पिटल को इलाज के लिए लगा दिया गया है.

दूसरी ओर, NDRF ने घटनास्थल पर 3 टीम को भेज दिया है. इसमें से एक टीम कोलकाता में मौजूद है जो कुछ ही देर में वहां पहुंच जाएगी. जबकि 2 टीमें बटालियन से भेजी गई हैं

Next Post

हाईटेक मशीनों से होगी अब बिलासपुर शहर की सफाई ,आज सी एम रमन के हाथों जनता के हवाले

बिलासपुर। नगर निगम बिलासपुर ने लॉयन सर्विसेस को शहर सफाई व्यवस्था हेतु आज डॉ रमन सिंह सफाई परियोजना को जनता के हवाले करेंगे। कम्पनी को ठेका 58 करोड़ में दिया गया है। कम्पनी तीन साल तक इटैलियन स्वीपिंग मशीन से शहर की सफाई करेगी। सफाई व्यवस्था की निगरानी विकास भवन […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।