कोरोना से जंग: इन आंकड़ों से पहली बार दिख रही उम्मीद की किरण, पर जीत अभी दूर, रहिए सतर्क

News Desk

नई दिल्ली
भारत में कोरोनावायरस संक्रमण की रफ्तार तेजी से बढ़ती जा रही है। अब तक देशभर में कोरोना के 57 लाख के करीब केस आ चुके हैं। इसके अलावा 90 हजार से ज्यादा लोग कोरोना से जान भी गंवा चुके हैं। हालांकि, एक सुकून देने वाली खबर यह है कि देश में अब एक्टिव केसों की संख्या तेजी से घट रही है। आंकड़ों की मानें तो बुधवार लगातार छठा दिन था, जब संक्रमण मुक्त होने वाले मरीजों की संख्या नए पॉजिटिव पाए गए लोगों से ज्यादा रही। इससे पहले भारत में एक दिन से ज्यादा कभी ऐसा नहीं हुआ था और तब भी डेटा जुटाने में गड़बड़ी को ही इसकी वजह माना जाता रहा है।

हालांकि, अब देश में पहली बार एक्टिव केसों के घटने का ट्रेंड शुरू हुआ है। 17 सितंबर को देश में सबसे ज्यादा 10.17 लाख एक्टिव केस थे, हालांकि अब देश में एक्टिव मरीजों की संख्या 9.66 लाख ही रह गई है। बता दें कि किसी महामारी के फैलने में एक्टिव केसों की भूमिका होती है, क्योंकि वे ही दूसरों को बीमारी दे सकते हैं। साथ ही सिर्फ एक्टिव केसों को ही मेडिकल जांच और देखरेख की जरूरत होती है। यानी एक्टिव केसों के घटने से स्वास्थ्य सेवाओं पर पड़ने वाला बोझ भी कम हुआ है। हालांकि, एक्टिव केसों के घटने का फायदा हफ्ते भर तक जारी रखने के बाद ही असर दिखाएगा।

इस बीच भारत में कोरोना की प्रजनन दर यानी रिप्रोडक्शन नंबर (R-वैल्यू) पहली बार 1 के नीचे आई है। R-वैल्यू वह संख्या है, जितने लोगों को एक कोरोना पीड़ित व्यक्ति औसतन संक्रमित कर सकता है। यानी अगर R-वैल्यू 1 के ऊपर है, तो इसका मतलब कोई व्यक्ति एक से ज्यादा लोगों को संक्रमित कर सकता है, जबकि अगर यह वैल्यू 1 से नीचे है, तो मतलब है कि कोई व्यक्ति कम से कम लोगों को संक्रमित कर रहा है। चेन्नई के इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज की रिसर्चर सीताभ्रा सिन्हा की टीम के मुताबिक, भारत में इस वक्त R-वैल्यू 0.93 पर है। यानी देश में 100 लोग सिर्फ 93 लोगों को ही कोरोना फैला रहे हैं। R-वैल्यू भी कोरोना की घटते प्रसार दर का अहम मानक है।

जिन राज्यों में R-वैल्यू तेजी से घट रही है, उनमें कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य सबसे ऊपर हैं। उदाहरण के तौर पर महाराष्ट्र में 17 सितंबर को कोरोना के सबसे ज्यादा 3 लाख से ज्यादा एक्टिव केस थे, लेकिन अब इनकी संख्या 2.73 लाख तक नीचे आ गई है। वहीं महाराष्ट्र में R-वैल्यू भी 0.86 है। इसके अलावा आंध्र प्रदेश में 9 सितंबर को सबसे ज्यादा 1 लाख एक्टिव केस थे, पर अब यहां भी 70 हजार एक्टिव केस ही हैं। आंध्र में भी R-वैल्यू 0.80 पर आ गई है।

इतना ही नहीं पिछले दो हफ्तों में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य- महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश में कोरोना के नए केसों से ज्यादा रिकवरी हो रही हैं। इसी के चलते सभी में एक्टिव केसों की संख्या घट रही है। आंध्र प्रदेश में तो एक्टिव केसों की संख्या 10 फीसदी तक गिर चुकी है।

Next Post

टेरिटोरियल फाइट से बाँधवगढ़ में एक मादा बाघ की मृत्यु की हुई पुष्टि

 भोपाल बाँधवगढ़ टाइगर रिजर्व में टेरिटोरियल फाइट में एक मादा बाघ की मृत्यु होने की पुष्टि हुई है। बाँधवगढ़ रिजर्व के धमोखर बफर क्षेत्र में बुधवार की शाम 4.30 बजे धौरखोह बीट के एक नाले में मादा बाघ के मृत होने की सूचना प्राप्त हुई थी। वन अमले द्वारा आसपास […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।