कोरोना से उबर रहे रोगियों को नई बीमारी- म्यूकोर्माइकोसिस, ब्लैक फंगस का इंफेक्शन 

News Desk

अहमदाबाद
देश में कई शहरों के अस्‍पतालों से अब कोरोना मरीजों को ब्लैक फंगस का इंफेक्शन होने के मामले भी सामने आ रहे हैं। राजधानी दिल्ली के अस्पताल के बाद अब गुजरात में अहमदाबाद के अस्‍पताल में ऐसे कोरोना मरीज मिले हैं, जिन्‍हें फंगल इंफेक्शन – म्यूकोर्माइकोसिस, या ब्लैक फंगस से पीड़ित पाया गया है। तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच इसे एक नई और दुर्लभ बीमारी बताया जा रहा है। रिपोर्ट् के मुताबिक, अहमदाबाद के अस्‍पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों में इसके मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। बीजे मेडिकल कॉलेज और सिविल अस्पताल के एक एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. कल्पेश पटेल ने बताया कि ईएनटी वार्ड के ऐसे मरीजों की पहचान पिछले 20 दिनों में ही हो गई थी। 

उन्होंने कहा, "इनमें से 45 को अभी सर्जरी से गुजरना है। हम रोजाना पांच से सात ऑपरेशन कर रहे हैं।" प्रोफेसर के मुताबिक, इस तरह की समस्‍या इम्यूनोडिफ़िशिएंसी कहलाती है, जिसे ब्लैक फंगस या म्यूकॉरमाइकोसिस बीमारी के नाम से जाना जाता है। ये कोरोना से उबरने वाले ऐसे रोगियों को हो रही है, जो आईसीयू में आते हैं या जो लंबे समय से पीडि़त हैं। वहीं, दिल्ली के एक प्रमुख अस्पताल के डॉक्टरों ने कहा, "इस तरह के खतरनाक इंफेक्‍शन के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। 

दिल्‍ली स्थित गंगा राम अस्पताल के सीनियर ईएनटी सर्जन डॉ. मनीष मुंजाल ने कहा, "पिछले दो दिनों में हमने म्यूकोर्मोसिस के 6 केसेस देखे। पिछले साल इंफेक्‍शन की वजह से आंखों की रोशनी कम होने और नाक व जबड़े की हड्डी के नुकसान से पीड़ित लोगों की मौत हुई थी।" अस्पताल के ईएनटी विभाग के अध्यक्ष डॉ. अजय स्वरूप ने कहा, ''यह दिक्‍कत उन रोगियों को ज्‍यादा होती है, जिन्‍हें मधुमेह है।'' 

Next Post

डॉ नीरज पाठक हत्याकांड में पत्नी निकली कातिल

छतरपुर  सिविल लाइन छतरपुर पुलिस ने शहर के चर्चित मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ नीरज पाठक हत्याकांड का पर्दाफाश कर दिया। डा पाठक की हत्या के मामले में पुलिस ने उनकी पत्नी काे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस पूछताछ में पत्नी ने बताया कि उसने एक वीडियाे देखा था। जिसमें बताया था […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।