कृतज्ञ राष्ट्र ने नम आंखों से दी अंतिम विदाई, प्रणब दा पंचतत्व में विलीन

News Desk

नई दिल्ली 
पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणब मुखर्जी का आज अंतिम संस्कार कर दिया गया. राजकीय सम्मान के साथ लोधी श्मशान घाट पर प्रणब दा पंचतत्व में विलीन हो गए. इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को आर्मी हॉस्पिटल (आरएंडआर) से 10, राजाजी मार्ग स्थित उनके सरकारी आवास में लाया गया.

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को भारत रत्न से सम्मानित देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को उनके आवास पर श्रद्धांजलि अर्पित की. देश के 13वें राष्ट्रपति के पार्थिव शरीर को सेना के आर एंड आर अस्पताल से सुबह 9.30 बजे लाया गया और दोपहर 2 बजे लोधी श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार किया गया.

खास बात है कि प्रणब मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव थे, इस वजह से उनके अंतिम संस्कार में कम ही लोग शामिल हुए. सभी लोग पीपीई किट में नजर आए. बेटे अभिजीत मुखर्जी ने पिता प्रणब मुखर्जी को मुखाग्नि दी. प्रणब दा का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया गया.

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, सीडीएस बिपिन रावत, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, स्पीकर ओम बिड़ला, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, शशि थरूर, अधीर रंजन चौधरी, सीपीआई महासचिव डी. राजा, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कई अन्य ने भी दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति को श्रद्धांजलि दी.

84 वर्षीय प्रणब मुखर्जी का सोमवार शाम को निधन हो गया था. लंबे समय तक राजनीति में सक्रिय रहे कांग्रेस के दिग्गज नेता मुखर्जी को रक्त का थक्का बनने की समस्या के बाद 10 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. ब्रेन सर्जरी के बाद उनकी हालत गंभीर हो गई और वह जांच में कोरोना पॉजिटिव भी निकले थे.

प्रणब मुखर्जी 2012 से 2017 तक भारत के राष्ट्रपति रहे. उन्हें 2019 में भारत रत्न और 2008 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था. प्रणब मुखर्जी के निधन पर केंद्र सरकार ने सात दिन के राष्ट्रीय शोक का ऐलान किया है. इसके साथ ही पश्चिम बंगाल सरकार ने भी शोक का ऐलान किया है.

Next Post

किडनैपरों की अब खैर नहीं, यूपी पुलिस ने की जबरदस्त प्लानिंग, कुछ घंटों में होंगे लॉकअप में

 लखनऊ   यूपी में जिलों में काम करने वाली पुलिस की सर्विलांस टीम पर बड़ी जिम्मेदारी डाली गई है। फिरौती के लिए अपहरण की सूचना मिलते ही उसे संदिग्ध नंबरों की 24 घंटे निगरानी करनी होगी। ऐसी घटनाओं की सूचना तत्काल एसटीएफ को भी दी जाएगी। हाल के दिनों में […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।