एक था सुशांत: राखी तो है पर सुशांत नहीं..आंसुओं में छिपे बहनों के दर्द

News Desk

पटना
इस बार राखी तो है पर बहनों का दुलारा सुशांत नहीं। हर साल इकलौते भाई की कलाई पर राखी बांधने वाली उसकी बहनों ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि साल 2020 उनके लिये मनहूस साबित होगा। जिस भाई ने उनकी डोली उठायी वह एक दिन उन सभी से बहुत दूर किसी अंजान दुनिया में चला जायेगा। लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था। सुशांत की मौत ने उनकी बहनों को तोड़ कर रख दिया है। सुशांत सिंह की तीन बहनें हैं। बड़ी बहन रानी सिंह, मंजिली बहन श्वेता कृति सिंह और तीसरी मीतू सिंह हैं। श्वेता अमेरिका, रानी सिंह फरीदाबाद जबकि मीतू मुंबई में रहती हैं। इस राखी में भाई का साथ छूट जाने को लेकर तीनों बहनों के उपर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। बहनें अपने भाई के गुनहगारों को सजा दिलाने के लिये बड़ी लड़ाई लड़ रही हैं। 

हाल ही में सुशांत की बहन श्वेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी खबर लिखकर न्याय की गुहार लगायी थी। श्वेता ने कहा था कि उनका भाई एक बहुत ही अच्छा इंसान था। उसका कोई भी गॉड फादर इस दुनिया में नहीं था। उसने अपने दम पर दुनिया में खुद की पहचान बनायी। कम समय में सुशांत बॉलीवुड की पहचान बन गये लेकिन उनकी यही कामयाबी कईयों को चुभने लगी। बहनें अपने भाई को इंसाफ दिलवाने के लिये आगे आयी हैं और उन्हें भरोसा है कि सुशांत के गुनाहगारों को सजा जरूर मिलेगी। 

Next Post

भारत ने दिया कड़ा संदेश, चीन पैंगॉन्ग झील पर बातचीत से कर रहा इनकार

नई दिल्ली भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर गतिरोध जारी है. व्यावहारिक रूप से देखा जाए तो चीन पैंगॉन्ग झील को लेकर बातचीत से कन्नी काट रहा है. बातचीत इसी प्वाइंट को लेकर होनी है, लेकिन चीन ने इसे खारिज किया है. इंडिया टुडे को पता चला […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।