अंतिम संस्कार के लिए लंबी कतार, शवदाह गृह के बाहर एंबुलेंस की लाइन

News Desk

 
बेंगलुरु 

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में कोरोना वायरस के प्रकोप का डरावना रूप देखने को मिल रहा है. कोरोना वायरस की वजह से बेंगलुरु में इतनी मौतें हुई हैं कि इलेक्ट्रिक शव दाह गृह में अंतिम संस्कार के लिए लाइन लग गई है. शहर के अलग अलग इलाकों से आ रहीं एंबुलेंस कतारबद्ध होकर इलेक्ट्रिक शव दाह गृह के बाहर अपनी बारी का इंतजार कर रही हैं, ताकि वो अंदर जा सकें और डेड बॉडी को उतार सकें.

क्रेमेटोरियम के बाहर इंतजार करती लाशें
बेंगलुरु के इस इलेक्ट्रिक शवदाह गृह में कोविड और दूसरी वजहों से हुई मौतों के बाद डेड बॉडीज को अंतिम संस्कार के लिए लाया जाता है. इलेक्ट्रिक शव दाह गृह में काम करने वाले लोगों ने बताया कि कोरोना से हुई मौत की बॉडी का अंतिम संस्कार करने के बाद दूसरी बॉडी को लाने के बीच कुछ वक्त लगता है. इसलिए समय और ज्यादा खर्च होता है.

बृहत बैंगलोर महानगर पालिका (BBMP) के आंकड़ों के अनुसार इसके क्षेत्र में 1 मई 2020 से लेकर 17 जुलाई 2020 तक 4 हजार 278 लोगों की मौत हुई है. इस आंकड़े में कोरोना से हुई मौतों के अलावा दूसरी मौतें भी शामिल हैं.

कर्नाटक में कोरोना से 59652 संक्रमित
कर्नाटक में कोरोना वायरस से संक्रमित कुल मरीजों की संख्या 59652 हो गई है. यहां पर कोरोना के एक्टिव केस की संख्या 36637 है. यहां अबतक 21775 लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं, जबकि कुल 1240 लोगों की मौत हुई है.

Next Post

केपी ओली की मुश्किलें नहीं हुईं खत्म, प्रचंड ने कहा- प्रधानमंत्री के साथ कोई समझौता नहीं

काठमांडू नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के सह अध्यक्ष पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड ने साफ किया है कि प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के साथ उनका कोई समझौता नहीं हुआ है। उन्होंने इस तरह के दावों को अफवाह बताते हुए कहा कि उन्होंने नवंबर में आम सम्मेलन आयोजित करने के प्रधानमंत्री और […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।