मध्य्प्रदेश

ट्रैप कैमरे निकाले गए, गश्त जारी, नहीं दिख रहा तेंदुआ

जबलपुर
रामपुर क्षेत्र स्थित ठाकुरताल पहाड़ी पर अब ठंड के दिनों में ही वन्यजीव तेंदुआ का दीदार होने के आसार हैं। कारण गर्मी तेज होते ही यह वन्यजीव ठाकुरताल को छोड़कर घने जंगल में चला गया। उसके वहां से अभी लौटने, ठाकुरताल पहाड़ी पर मौजूद होने की कोई सूचना नहीं आई है। यह कहना है वनमंडल जबलपुर के वनमंडलाधिकारी रविन्द्र मणि त्रिपाठी का।

वनमंडलाधिकारी ने बताया कि रामपुर की ठाकुरताल पहाड़ी, नयागांव और आस-पास के क्षेत्र में करीब 3 माह तक वन्यजीव तेंदुआ की उपस्थिति रही। इस वन्यजीव पर नजर रखने और नागरिकों की सुरक्षा को लेकर ठाकुरताल पहाड़ी, नयागांव में ट्रैप कैमरे लगाए गए।

साथ ही वन्यजीव के आवाजाही वाले रास्तों पर अलग-अलग 5 पिंजरे रखे गए। क्षेत्र के लोगों ने तेंदुआ को आवाजाही करते कई बार देखा, लेकिन उससे कोई छेड़छाड़ नहीं की। इसलिए वन्यजीव ने किसी घर में घुसने या व्यक्तियों पर हमला करने जैसी घटनाओं को अंजाम नहीं दिया। वन विभाग कंट्रोलरूम को नागरिकों ने रामपुर, नयागांव, ठाकुरताल पहाड़ी, आईटी पार्क रोड पर तेंदुआ की मौजूदगी की सूचनाएं दी।
 
ट्रैप कैमरों में तेंदुआ की हरकतें कैद
वन विभाग के ट्रैप कैमरों ने तेंदुआ की हरकतों को कैद किया। वन कर्मचारियों ने वन्यजीव के आवाजाही के रास्ते को जान लिया। इसलिए वन अमला लगातार उसी रास्ते और संभावित स्थलों की गश्त कर रहा है।

बारिश के पहले निकाले कैमरे
वन विभाग ने अप्रैल के पहले सप्ताह तक ट्रैप कैमरों में तेंदुआ की हरकतों को कैद किया। इसके बाद ठाकुरताल में इस वन्यजीव की मौजूदगी का प्रमाण ही नहीं मिले। इसलिए मई के अंतिम सप्ताह में ठाकुरताल पहाड़ी से सभी ट्रैप कैमरों को निकाल लिया गया।

दो पिंजरे रखे, गश्त जारी
वन विभाग ने कैमरे निकालने के साथ ही ठाकुरताल पहाड़ी, नयागांव, रामपुर क्षेत्र में रखे पिंजरों को भी हटाया। इस क्षेत्र में अभी भी दो पिंजरे जहां के तहां रखे हैं। साथ ही वनकर्मियों की गश्त का दौर भी लगातार चल रहा है।

अब नहीं मिलती खबर
कोरोना लॉकडाउन के दौरान या उसके बाद तेंदुआ देखने की वन विभाग के कंट्रोलरूम तक या मौके पर पहरा देते वनकर्मियों को अब खबर मिलना भी बंद हो गया है। साथ ही ठाकुरताल पहाड़ी, नयागांव, आईटी पार्क आदि में तेंदुआ को देखने की पुष्टि नागरिकों ने भी करना बंद कद दिया है।

Back to top button