औषधीय गुणों से भरपूर होता है साबुत धन‍िया, कई रोगों में फायदेमंद

News Desk

 

धनिया भारतीय रसोई के सबसे महत्वपूर्ण मसालों में एक है। हरी धनिया पत्ती, साबुत धनिया और धनिया पाउडर को खाने को बेहतरीन स्वाद देने के लिए मसाले के तौर पर इस्तेमाल क‍िया जाता है, लेक‍िन इसके अलावा यह सेहतमंद फायदों से भी भरपूर होता है। धनिया में फ्लेवोनोइड, पॉलीफेनोल, बी-कैरोटीनोइड, आयरन, कैल्शियम, मिनरल्स, फाइबर, मैग्नीशियम के साथ-साथ विटामिन ए, के और सी पाए जाते हैं।

आयुर्वेद में भी इसके औषधीय गुण बताए गए हैं। स्टडीज के मुताब‍िक, धनिए के बीज और पत्तियां एंटी-इन्फ्लेमेटरी और जीवाणुरोधी होते हैं। तो आइए जानते हैं कि धनिया विभिन्न प्रकार की बीमारियों में किस तरह मददगार है।

जॉन्डिस (पीलिया) दूर करने के लिए
जॉन्डिस (पीलिया) की समस्या होने पर सूखा धनिया, मिश्री, आंवला, गोखरू व पुनर्नवा जड़ को बराबर मात्रा में पीस लें। सुबह-शाम 1 चम्मच चूर्ण आधा गिलास पानी के साथ लेने से जॉन्डिस में, लिवर की सूजन और पेशाब कम आने जैसी प्रॉब्लम में आराम मिलता है।

डायबिटीज रोगियों के लिए फायदेमंद
आयुर्वेद के मुताब‍िक, डायबिटीक लोगों के लिए धनिए के बीज का सेवन काफी फायदेमंद है। यह कॉलेस्ट्रोल और फैट के लेवल को कम करने में मदद करता है। इसके बीज में मौजूद फ्लेवोनोइड, पॉलीफेनोल, बी-कैरोटीनोइड जैसे कंपाउंड खून में एंटी-हाइपरग्लाइकेमिक, इंसुलिन डिस्चार्जिंग और इंसुलिन प्रोडयूस करते हैं, जिससे आपके ब्‍लड ग्लूकोज के लेवल को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। डायबिटीज रोगी 10 ग्राम साबुत धनिया लें। इसे 2 लीटर पानी में भिगोकर रातभर ढंककर रख दें। सुबह इसे छानकर खाली पेट पिएं।

मुंह के छालों से आराम दिलाता है
मुंह में छाले होना एक आम समस्‍या है। इस समस्‍या से नि‍जात पाने के लिए 1 चम्मच धनिया पाउडर लेकर उसे 250 मिलीलीटर पानी में अच्छी तरह मिला लें, फिर इस पानी को छान लें। दिन में 2-3 बार इस पानी से कुल्ला करें।

पीरियड के दर्द में कारगर
गर्भाशय में संकुचन की वजह से पीरियड के दौरान पेट और कमर में असहनीय दर्द होता है। इस दर्द से राहत पाने के लिए धनिया के बीज की चाय बनाकर पीने से बहुत लाभ मिलता है, इसके लिए चाय बनाते समय उसमें आधा चम्मच साबुत धनिया डाल दें। धनिया में मौजूद एंटी इंफ्लामेटरी व एनाल्जेसिक, एक दवाई की तरह काम करके दर्द को कम करता है।

वजन घटाने में असरदार
वजन घटाने के लिए धनिया का पानी पीना बहुत फायदेमंद माना गया है। रोजाना सुबह खाली पेट इसे पीने से कुछ ही दिनों में असर दिखाई देने लगता है। धनिया के बीज, मेथी के दाने,जीरा और काली मिर्च डालकर रातभर भिगोकर रख दें। सुबह इसे छलनी से छान लें। फिर इस पानी में नींबू का रस और शहद मिलाकर खाली पेट पिएं।

कंजंक्टिवाइटिस से दिलाता है राहत
कंजंक्टिवाइटिस की समस्या होने पर आंख की पलकों के अंदर और बाहर इंफ्लामेशन के कारण सूजन, खुजली, जलन होने के साथ-साथ आंखें लाल हो जाती हैं। धनिया के बीज में मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण इंफ्लामेशन को बढ़ावा देने वाले साइटोकिन्स कंपाउंड से लड़ने में मदद करते हैं।

हैल्दी स्किन के लिए
धनिया त्वचा के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। धनिया के बीज में विटामिन-सी, एंटी- बैक्टीरियल, एंटी-ऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी की प्रचुरता होती है। यह स्किन को हेल्दी रखने के अलावा एन्टी एजिंग और दाग-धब्बे दूर करता है, सनबर्न से राहत दिलाने में मदद करता है और स्किन को मॉइश्चराइज रखता है। रात भर एक चम्मच धनिया को एक कप पानी में भिगोकर रखें। सुबह इस पानी को रुई की मदद से चेहरे पर लगाएं।

हृदय रोगों में लाभदायक
धनिया के बीज कॉलेस्ट्रोल और फैट के लेवल को कंट्रोल में रखने के साथ- साथ हृदय रोगों के जोखिम को भी कम करने में सहायक होते हैं। कोलेस्ट्रोल और ट्राइग्लिसराइड्स हृदय संबंधी बीमारियों का कारण होते हैं। धनिया के बीज में हाइपोलिपिडेमिक होता है, जो शरीर में मौजूद ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम कर द‍िल को स्वस्थ रहता है।

Next Post

UP पुलिस ने कॉमेडियन फारूकी का वारंट जारी किया

लखनऊ स्टैंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी की मुश्किलें और बढ़ती दिखाई दे रही है. मुनव्वर फारूकी के खिलाफ प्रयागराज में दर्ज मुकदमे में प्रोडक्शन वारंट जारी हुआ है. प्रयागराज पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट इंदौर सीजेएम कोर्ट और जेल में पेश किया है. मुनव्वर पर गृहमंत्री अमित शाह और हिंदू देवी-देवताओं को […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।