इम्‍यूनिटी मजबूत बनाती हैं ये कड़वी चीजें

News Desk

 

अगर आपको अपनी सेहत का ध्यान रखना है तो आपको खाने पीने की चीजों पर नजर रखनी होगी। आज हम आपको ऐसी ही कुछ खाने पीने की चीजों के बारे में बताएंगे जो आपके लिए फायदेमंद है। लेकिन आप अक्सर उन्हे थाली में बचा हुआ ही छोड़ देते हैं। हम सभी के अंदर अक्सर मीठी चीजों को लेकर एक अलग ही प्रकार की क्रेविंग होती है। मीठा खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही आपको नुकसान पहुंचाता है। वहीं कड़वी चीज भले ही स्वादिष्ट ना हो लेकिन आपको तंदुरुस्त रखने में कारगर होती हैं। आइए जानते हैं आखिर क्यों कड़वी चीजें आपके लिए सही हैं।

बीते वर्ष से लेकर जब कोरोना ने दुनिया भर में दस्तक दी थी। तभी से पूरी दुनिया में सेहत को लेकर लोग बहुत ज्यादा जागरूक रहने लगे हैं। बीमारियों से बचने के लिए लोग अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के तरीके खोजने लगे हैं। आज के समय में अगर आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर है तो आप बीमारियों से ना केवल लड़ पाते हैं, बल्कि बदलते मौसम में भी आपकी बीमार नहीं पड़ते। ऐसे में अगर आपको अपनी इम्यूनिटी को स्ट्रांग करना है तो आप अपनी डाइट में कड़वी चीजों को शामिल कर सकते हैं। दरअसल, जब भी आप ऐसी चीजों का सेवन करते हैं जिनका स्वाद तेज होता है, तो यह चीज आपके स्लाइवा और पेट के एसिड को बढ़ाने का कार्य करती हैं। इस तरह की खाद्य सामग्री ना केवल आपके डाइजेस्टिव सिस्टम को बेहतर करती है, बल्कि आपका शरीर भोजन से अधिक मात्रा में पोषक तत्व लेने का कार्य करती है। कुल मिलाकर अगर आप कड़वी चीजों का सेवन करते हैं तो इससे आपका इम्यून सिस्टम भी बेहतर होता है और मेटाबॉलिज्म भी बेहतर होता है। आइए जानते हैं कौन-सी ऐसी 5 खाद्य सामग्री हैं जो आपको जरूर खानी चाहिए।

करेला
करेले को आप उसके कड़वे स्वाद के लिए जानते होंगे। लेकिन यह सेहत के लिए कितना फायदेमंद है यह शायद आपको पता ही ना हो। करेले के अंदर Triterpenoids जैसे फाइटोकेमिकल्स पाए जाते हैं। इसके अलावा करेले के अंदर फ्लेवोनोइड्स भी मौजूद होते हैं जो शरीर में कैंसर के सेल्स को बढ़ने से और पैदा होने से रोकते हैं। साथ ही करेले के सेवन से ब्लड में मौजूद शुगर लेवल नियंत्रित रहता है। यह टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। करेले में कुछ एंटी ऑक्सीडेंट तत्व भी पाए जाते हैं, यह तत्व उन सेल्स की ठीक करते हैं जो फ्री रेडिकल्स के कारण प्रभावित होते हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियां
हरी पत्तेदार सब्जियों के अंदर पाए जाने वाले बहुत से ऐसे तत्व हैं जो आपको अन्य किसी सब्जी के अंदर नहीं मिलते। विज्ञान की माने तो रोजाना एक व्यक्ति को कम से कम 2 कप से ज्यादा हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करना चाहिए। इनमे आप पालक, ब्रोकली, साग और पत्ता गोभी जैसी चीजों का सेवन कर सकते हैं। आपको बता दें कि हरी पत्तेदार सब्जियों के अंदर आयरन, कैल्शियम विटामिन और कई मिनरल्स पाए जाते हैं। कुल मिलाकर इन सब्जियों में इतने पोषक तत्व होते हैं जिनकी आवश्यकता आपको दिनभर में होती है। साथ ही इन सब्जियों के कारण कैंसर की समस्या भी पैदा नहीं होती।

डार्क चॉकलेट
चॉकलेट खाना लड़कियों को बेहद पसंद होता है। लेकिन डार्क चॉकलेट के मामले में लड़कियां हो या लड़के दोनों ही इनसे बचते दिखाई देते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि डार्क चॉकलेट खाने में बेहद कड़वी होती है। डार्क चॉकलेट में कोकोआ पाउडर मिलाया जाता है, जो कोकोआ प्लांट की बीन्स से बनता है। इसके कड़वे होने का कारण है पॉलीफेनोल्स और एंटीऑक्सीडेंट तत्व। डार्क चॉकलेट के अंदर मौजूद इन तत्वों की वजह से आपके ब्लड वैसल्स चौड़े हो जाते है। साथ ही इससे इंफ्लेमेशन की समस्या में भी राहत मिलती है। डॉर्क चॉकलेट में जिंक, कॉपर, मैग्नीशियम और आयरन जैसे तत्व भी पाए जाते हैं। यह तत्व आपको सेहतमंद बनाए रखने में मदद करते हैं।

साइट्रस पील
साइट्रस फ्रूट का सेवन तो आप सभी ने किया होगा। आपको बता दें कि साइट्रस फल वह होते हैं जो स्वाद में थोड़े खट्टे और मीठे होते हैं, जैसे संतरे और नींबू आदि। आमतौर पर लोगों को लगता है कि केवल संतरे या साइट्रस फलों का रस ही लाभदायक है। लेकिन हम आपको बता दें कि साइट्रस फलों के छिलके भी उतने ही फायदेमंद होते हैं। यह स्वाद में बेहद कड़वे हों लेकिन आपकी बहुत सी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का अंत कर सकते हैं। इन फलों के छिलके के अंदर फ्लेवोनॉयड्स होता है जो आमतौर पर कुछ ही फलों के अंदर ही पाया जाता है। आप साइट्रस फलों के छिलके को अपनी रोजाना की डाइट में स्वाद को बेहतर करने और सेहतमंद रहने के लिए शामिल कर सकते हैं।

ग्रीन टी
ग्रीन टी का सेवन करने की सलाह ना केवल आयुर्वेद बल्कि विज्ञान भी देता है। वजन कम करना हो, मेटाबॉलिज्म मजबूत करना हो या हृदय संबंधित समस्याओं से बचना हो। इन सभी समस्याओं से निपटने के लिए आप ग्रीन टी का सेवन कर सकते हैं। अगर आप रोजाना चाय या कॉफी का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं तो आप इनकी जगह ग्रीन टी का सेवन कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि ग्रीन टी का सेवन भी आपको तय मात्रा में ही करना होगा। आप स्वस्थ रहने के लिए रोजाना 2 कप ग्रीन टी का सेवन कर सकते हैं।

Next Post

मेडिकल बोर्ड की बैठक अब 5 अप्रैल को

बलरामपुर जिला चिकित्सालय बलरामपुर-रामानुजगंज के सिविल सर्जन सह अस्पताल अधीक्षक ने जानकारी दी है कि मेडिकल बोर्ड की बैठक के लिए 02 अप्रैल 2021 की तिथि निर्धारित की गई थी। किन्तु निर्धारित तिथि पर शासकीय अवकाश होने के कारण उक्त बैठक 05 अपै्रल 2021 दिन सोमवार को आयोजित की जायेगी।

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।