15 जनवरी से कोरोना कॉलर ट्यून में बिग बी की आवाज नहीं देगी सुनाई

News Desk

नई दिल्ली
कोरोना काल में लोगों को हर माध्यम से जागरूक किया गया। इसके तहत फोन की कॉलर ट्यून भी कोरोना का जिक्र होने लगा और यहां बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की आवाज में जागरूकता संदेश दिया जाने लगा। लेकिन अब शुक्रवार (15 जनवरी) से कोरोना कॉलर ट्यून में बिग बी की आवाज नहीं सुनाई देगी। बता दें कि बिग बी की आवाज को हटाने के लिए दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका भी दायर हुई थी, लेकिन उसकी वजह से कॉलर ट्यून नहीं बदली गई है। दरअसल, अब फोन करने पर कोरोना टीकाकरण की नई कॉलर ट्यून सुनाई दिया करेगी।

जानकारी के मुताबिक, 16 जनवरी से देश में टीकाकरण अभियान शुरू हो जाएगा। ऐसे में 15 जनवरी से कोरोना कॉलर ट्यून बदली जा रही है, जो टीकाकरण पर आधारित होगी। माना जा रहा है कि अमिताभ बच्चन की आवाज वाली कोरोना कॉलर ट्यून हटने की असल वजह यही है।

गौरतलब है कि बिग बी की आवाज वाली कॉलर ट्यून हटाने को लेकर कुछ दिन पहले दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका भी दायर की गई थी। इस याचिका में कहा गया था कि कॉलर ट्यून में असली कोरोना वॉरियर की आवाज होनी चाहिए। ऐसे में अमिताभ बच्चन की आवाज को कोरोना कॉलर ट्यून से हटाया जाए।

कॉलर ट्यून में अमिताभ बच्चन बोलते हैं, 'नमस्कार, हमारा देश और पूरा विश्व आज कोविड-19 की चुनौती का सामना कर रहा है। कोविड-19 अभी खत्म नहीं हुआ है, ऐसे में हमारा फर्ज है कि हम सतर्क रहें। इसलिए जब तक दवाई नहीं, तब तक कोई ढिलाई नहीं। कोरोना से बचाव के लिए जरूरी है, नियमित रूप हाथ धोना, मास्क पहनना और आपस में उचित दूरी बनाए रखना। याद रखिए दो गज दूरी, मास्क है जरूरी। खांसी बुखार या सांस लेने में कठिनाई होने पर हेल्पलाइन नंबर 1075 पर संपर्क करें।'

Next Post

ऑस्ट्रेलियन ओपन के 32 खिलाड़ी चार्टर्ड से पहुंचेंगे मेलबर्न

मेलबर्न परंपरागत तारीखों से तीन सप्ताह देरी से शुरू हो रहे ऑस्ट्रेलियन ओपन टेनिस के क्वॉलिफायर मेलबर्न से करीब 12000 किलोमीटर दूर खेले गए। अब आठ फरवरी से सीजन के इस पहले ग्रैंडस्लैम के लिए 16 पुरूष और 16 महिला क्वॉलिफायर चार्टर्ड उड़ानों से यहां पहुंचेंगे। कोरोना महामारी के कारण […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।