फादर्स डे 2021: ‘फेल होना हमारे खानदान की परंपरा है’, पिता के इन डायलॉग्स पर खूब बजीं तालियां

News Desk

हर व्यक्ति के जीवन में पिता की अहम भूमिका होती है। जीवन के उतार चढ़ाव में मार्गदर्शक और प्रेरक की भूमिका पिता निभाते हैं। बच्चों के लिए बचपन में सारा संसार पिता होते हैं, जिनकी अंगुली पकड़कर बच्चे चलना सीखते हैं। कभी फिल्मी पिता की तरह हमारी गलतियों को नजरअंदाज करते हैं तो कभी-कभी सख्त पिता की तरह छोटे-बड़े काम को मना भी कर देते हैं। बॉलीवुड में भी ऐसे कई पिताओं की छवि दर्शकों के मन में बसी हुई है और इनके कुछ डायलॉग आज भी हमें गुदगुदाते तो कुछ इमोशनल कर देते हैं। ऐसे में आइए जानते हैं फिल्मी पर्दे के ऐसे मशहूर डायलॉग्स जिन्होंने हर युवा के दिल पर दस्तक दी है।

'जा सिमरन जा, जी ले अपनी जिंदगी'
साल 1995 में बॉक्स आॅफिस पर रिकॉर्ड तोड़ कमाई करने वाली 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' में काजोल के पिता बने अमरीश पुरी पर फिल्माया गया एक डायलॉग, 'जा सिमरन जा, जी ले अपनी जिंदगी' उस समय लोगों की जुबान पर चढ़ गया था। फिल्म के इस डायलॉग ने खूब सुर्खियां बटोंरी थीं। इतना ही नहीं आज भी लोग एक दूसरे को बातों ही बातों में कई बार ये डायलॉग मार देते हैं।

'रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं, नाम है शहंशाह'
साल 1988 में आई फिल्म शहंशाह का एक डायलॉग है 'रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं, नाम है शहंशाह', बहुत फेमस हुआ था। अमिताभ बच्चन पर फिल्माया गया ये डायलॉग आज भी कई बार पापा अपने बच्चों से बात करते समय उन्हें बोलते हुए नजर आ ही जाते हैं।  

'मैं मरूंगा तो बुलेट से मरूंगा, बीपी या शूगर से नहीं'
अमिताभ बच्चन की फिल्म बुढ्ढा होगा तेरा बाप साल 2011 में आई थी। इस फिल्म में उनके साथ एक्टर सोनू सूद और प्रकाश राज जैसे कलाकार मुख्य भूमिका में थे। ये डायलॉग अमिताभ बच्चन पर फिल्माया गया था। इस फिल्म का निर्देशन पुरी जगन्नाध ने किया था।
'अगर हमारे बेटा को कुछ हो जाता तो इतना गोली मारते कि आपका ड्राइवर भी खाली खोका बेच बेच कर रईस हो जाता।'
ये मशहूर डायलॉग मनोज वाजपेयी की फिल्म गैंग्स आॅफ वासेपुर 1 का है। फिल्म में सरदार खान का किरदार निभाने वाले मनोज वाजपेयी ये डायलॉग उस समय बोलते हैं जब रामाधीर सिंह ( तिग्मांशु धूलिया) को धमकी दे रहे होते हैं। फिल्म गैंग्स आॅफ वासेपुर 1 साल 2012 में आई थी। इस फिल्म का निर्देशन अनुराग कश्यप ने किया था।

'एग्जाम बहुत होते हैं, बाप मोस्टली एक ही होता है'
फिल्म '3 इडियट्स' में शरमन जोशी के पिता को बीमार दिखाया गया था। एग्जाम के टाइम पर पिता की तबीयत खराब होने के बाद दोस्त जो उन्हें डायलॉग मारकर नसीहत देते हैं, वो आज भी लोगों को याद है। आमिर खान शरमन को बोलते हैं, 'एग्जाम बहुत होते हैं, बाप मोस्टली एक ही होता है।

Next Post

राष्ट्रपति बनते ही इब्राहिम रायसी ने सऊदी अरब को भेजा दोस्ती का पैगाम, टेंशन में इजरायल 

तेहरान/रियाद इब्राहिम रायसी के नेतृत्व वाली नई सरकार पहले ही दिन बड़े कूटनीतिक कदम उठाने जा रही है। ईरान का यह कदम पूरे मध्य पूर्व में भू-राजनीतिक स्थिति को बदल सकता है। सऊदी अरब के साथ पांच साल तक राजनयिक संबंध तोड़ने के बाद ईरान ने रविवार को अपने राजदूत […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।