क्या आपकी शादी में आ रही रुकावट का कारण है घर का Bed

News Desk

अक्सर लोगों के साथ एेसा देखा सुना गया है कि उन्हें किसी नई जगह पर जाकर रात में बेचैनी, नींद न आना जैसी कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं कुछ एेसी भी जगह होती है, जहां इंसान को घर से अपने घर से भी ज्यादा आराम मिलता है। लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि एेसा क्यों होता है और उसके पीछे का क्या कारण। अगर नहीं तो आज हम आपको बताते हैं इसके पीछे का असली कारण।

दरअसल, ये सब वास्तु के प्रभाव के कारण होता है। यही नहीं, वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार आपके सोने का तरीका और बिस्तर का प्रभाव भी आपकी जिंदगी पर पड़ता है। ये आपके वैवाहिक‌ जीवन और विवाह होने में बाधा भी बन सकता है। इसके अलावा आपके करियर और आर्थिक‌ स्थिति पर भी असर डालता है।

वास्तुशास्‍त्र के अनुसार लड़के और लड़कियों की सोने की दिशा अलग-अलग होती है। लड़कियों के लिए उत्तर-पश्चिम दिशा शुभ होती है तो लड़कों को पूर्व और पूर्वोत्तर दिशा में सोना चाहिए। बेड लगाते समय यह भी ध्यान रखें कि बेड किसी भी दीवार से सटा हुआ नहीं हो।

बेड की साफ-सफाई जितनी जरूरी है उतनी ही जरूरी है बेड के नीचे की सफाई। इसलिए अगर बेड के नीचे सामान रखने की आदत है तो इसे बदल दीजिए। बेड के नीचे रखे हुए सामानों से नकारात्मक उर्जा का संचार होता है जो विवाह में बाधक होता है। अगर बॉक्स वाले पलंग पर सोते हैं तो निश्चित ही बॉक्स में काफी सामान रखते होंगे। इससे भी नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

इस नकरात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए पलंग के चारों पायों के नीचे तांबे का एक स्प्रिंग और एक बाउल में नमक भर कर रखें। बेड पर हमेशा बाईं ओर सोएं। इस तरफ सोने वाले लोगों का मूड अधिक अच्छा रहता है, उनके अंदर सकारात्मक सोच रहती है और वह अधिक एक्टिव रहते हैं।

Next Post

भूपेश बघेल की सरकार वादे पूरे करने वाली सरकार – शैलेश नितिन

रायपुर छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शिक्षाकर्मियों के संविलियन का आदेश जारी किए जाने का स्वागत करते हुए कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस की सरकार मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार वादे पूरे करने वाली सरकार है। करो ना संक्रमण के कारण तमाम वित्तीय परेशानियों […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।