अगर सूर्य की रोशनी घर के इस तरफ पड़ रही है तो मिलेंगे शुभ फल

News Desk

ज्योतिष शास्त्र में तो ग्रहों के बारे में पढ़ने सुनने को मिलता ही हैं परंतु वास्तु शास्त्र में भी इनके बारे में वर्णन मिलता है ये बहुत कम लोग जानते हैं। इसमें बताया गया है कि घर बनवाते समय ग्रहों का भी ध्यान रखना बहुत ज़रूरी होता है।

ज्योतिष शास्त्र में तो ग्रहों के बारे में पढ़ने सुनने को मिलता ही हैं परंतु वास्तु शास्त्र में भी इनके बारे में वर्णन मिलता है ये बहुत कम लोग जानते हैं। इसमें बताया गया है कि घर बनवाते समय ग्रहों का भी ध्यान रखना बहुत ज़रूरी होता है। कहते हैं ये ग्रह हमारे जीवन में बहुत प्रभाव डालते हैं। कहते हैं अगर इसांन अपना घर वास्तु की इन बातों को ध्यान में रखकर बनवाता है तो उसके जीवन में परेशानियां कम होने लगती हैं। 

ज्योतिष शास्त्र की मानें तो नवग्रहों में से राहु, सुरंग, गुफ़ा और घर के गोदाम का प्रतिनिधित्व करता है। इसके अनुसार अगर आपने अपने घर में गोदाम सही दिशा में बनाया है, घर में सही संख्या में खिड़कियां और दरवाज़े भी हैं परंतु किसी न किसी कारण से घर में सूर्य की रोशनी नहीं आ पाती तो ऐसे घरों में राहु अपना नकारात्मक प्रभाव दिखाने लगता है। आइए, जानते हैं, सूर्य की रोशनी न आने पर राहु का घर में प्रभाव, इसका वास्तु में महत्व। इसके साथ ये भी जानते हैं कि कैसे इससे शुभ परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं।

सबसे पहले जाने लें कि घर के अंदर लंबी गैलरी, सुरंग नुमा कमरे और अंधेरे स्थान पर गोदाम कभी नहीं होना चाहिए। जिस घर में ऐसा होता है तो वहां रहने वाले परिवार को बहुत बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इसलिए जब घर का निर्माण करवाएं  तो इस बात का खास ध्यान रखें कि घर में पूरी सूर्य की रोशनी ज़रूर आती हो।

कुछ घरों के कमरे इनते बड़े नहीं होते जितना कि उन घरों का गोदाम होता है। लेकिन वास्तु और ज्योतिष के अनुसार ऐसा होना घर के सदस्यों के लिए अच्छा नहीं माना जाता। परंतु अगर ऐसा हो और गोदाम वाले हिस्से में हमेशा अंधेरा रहता हो तो कहते हैं घर का मुखिया अपनी जिम्मदारियों से पीछे हटने लगता है या गलत तरीके से धन कमाने लगता है। जिसके चलते वो बहुत से लोगों को अपना दुश्मन बना लेता है। इसलिए अगर आपके घर में गोदाम की ऐसी जगह हो तो इसमें बदलाव ज़रूर कर लें।
 
ज्योतिष में राहु और केतु को छाया ग्रह कहा जाता है। इनके बारे में ये माना जाता है कि ये दोनों ग्रह किसी दूसरे ग्रह की खराब स्थिति के समय अपना बुरा कुप्रभाव  अधिक डालते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर घर के स्टोर रूम में जाने का रास्ता किसी गैलरी के बीच से है तो इन हालातों में केतु का खराब असर परिवार के सदस्यों पर डालता है। इसलिए इस चीज़े का ध्यान रहे कि स्टोर रूम में कभी भी गैलरी न बनवाएं।

वास्तु के मुताबिक घर के स्टोर रूम के पास कभी भी बाथरूम, नाली, मोरी, गली या संकरा रास्ता नहीं होने चाहिए। बल्कि इसके विपरीत आज कल लोगों के घर में ज्यादातर देखा जाता है कि उनके स्टोर रूम के पास संकरा रास्ता होता है। इसके बारे में ज्योतिष और वास्तु में कहा गया है कि ऐसा होने पर घर के लोगों में उदासी रहती है। खासतौर पर घर का मुखिया सदैव किसी न किसी कारण खालीपन का को महसूस करता रहता है। वास्तु के अनुसार ऐसे घर में संपन्नता होते हुए भी परिवार के लोग कभी सुखी नहीं रह पाते। ये भी कहा जाता है कि अगर इसे बनवाते समय वास्तु के नियमों का ध्यान न रखा जाए तो घर का मुखिया सभी सुख, धन और वैभव होने के बाद भी मानसिक रूप से अशांत रहता है। कहने का भाव ये है कि सबकुछ होने के बाद भी वो दुखी ही रहता है। इसलिए इन बातों का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी होता है।

Next Post

महाअभियान में प्रदेश में वैक्सीनेशन का आंकड़ा 10 लाख के पार -CM शिवराज

भोपाल  कोरोना से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर चलाए जा रहे वैक्सीनेशन अभियान में मध्यप्रदेश ने उल्लेखनीय सफलता प्राप्त की है। सोमवार शाम 4.30 बजे तक मध्य प्रदेश में 10 लाख लोगों को वैक्सीन लगाने का आंकड़ा छू लिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसकी […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।