स्वास्थ्य केंद्र में तोड़फोड़, फायरिंग करने वाले दो नक्सली गिरफ्तार.. न्यायालय में पेश कर भेजा जेल..

Staff

सुकमा

स्वास्थ्य केंद्र में तोड़फोड़ करने वाले तीन नक्सलियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। वहीं पुलिस गश्त पार्टी पर हमला करने वाले दो मिलिशिया सदस्य वह एक DKMS सदस्य को जंगल में घेराबंदी कर पकड़ा गया पूछताछ में तीनों ने पुलिस पार्टी पर हमला करने की बात स्वीकार की है। पुलिस ने गिरफ्तार छह नक्सलियों को न्यायालय के सामने पेश कर जेल भेज दिया है।
22 नवंबर को थाना फुल बगड़ी क्षेत्र के ग्राम बड़े शेट्टी के स्वास्थ्य केंद्र को नक्सलियों द्वारा तोड़फोड़ किए जाने की सूचना मिलने पर थाना फुल बगड़ी से प्रभारी हुबलाल चंद्राकर एवं डीआरजी संयुक्त पार्टी तत्काल रवाना हुए। पुलिस पार्टी जैसे ही ग्राम बड़े सेठी पहुंचे तभी पूर्व से ही घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग किया पुलिस के बढ़ते दबाव देखकर नक्सली जंगल से भाग निकले।
फायरिंग बंद होने के बाद घटनास्थल की जांच करने पर संदिग्ध व्यक्ति फावड़ा व सब्बल लेकर झाड़ी में छुपे हुए थे जिन्हें घेराबंदी करके पकड़ा गया। पूछताछ करने पर अपना नाम कुंजाम जोगा पिता गंगा (28) थाना चीतलनार, कुंजाम गंगा पिता मासा(20) चितलनार, नंदा हेमला पिता देवनाथ( 26), चीतलनार का होना बताया। सभी नक्सली संगठन मिलिशिया सदस्य के पद पर कार्य करना तथा नक्सली लीडर नागमणि व सोढ़ीसोढ़ी मुया के कहने पर अपने अन्य नक्सली साथियों के साथ बड़े शेट्टी स्वास्थ्य केंद्र को तोड़फोड़ कर क्षतिग्रस्त करना बताया। इसके बाद सभी नक्सली को थाना फुल बगड़ी लाकर अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया गया। सभी नक्सली को 23 नवंबर को विधिवत गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश कर जेल दाखिल कर दिया गया।

Next Post

मुख्यमंत्री चौहान ने स्व. कैलाश जोशी की पुण्यतिथि पर किया नमन

 भोपाल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री स्व. कैलाश जोशी सेवा और सादगी की प्रतिमूर्ति थे। वे मध्यप्रदेश के लोकप्रिय नेताओं में शामिल थे। उनके मार्गदर्शन का लाभ आज भी समाज को मिल रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने आज स्व. जोशी की पुण्यतिथि पर आयोजित स्मरण […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।