रायपुर : बिना राशनकार्ड धारी प्रवासी श्रमिको को दी जा रही है निःशुल्क खाद्यान्न सामग्री हितग्राहियों में खुशी की लहर

Staff

रायपुर

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन होने के कारण खाने कमाने बाहर गये श्रमिकों में से छत्तीसगढ़ वापस लौटे श्रमिकों और व्यक्तियों को जिनके पास राशनकार्ड नहीं हैं या किसी भी राशनकार्ड में नाम दर्ज नहीं है, उनको माह मई एवं जून के लिए 05 किलो चावल प्रति व्यक्ति और 01 किलो चना प्रति परिवार प्रति माह की दर से निःशुल्क प्रदाय किया जाना है। ऐसे प्रवासी श्रमिकों की पहचान कर ऑनलाईन एंट्री की जा रही है। योजना का लाभ केवल ऐसे प्रवासी श्रमिकों को दिया जाना है, जिनका नाम किसी भी राशन कार्ड में दर्ज नही है।
मुख्यमंत्री जी के इस निर्देश से बेमेतरा में शासकीय उचित मूल्य की दुकान से सिंघौरी निवासी सुनीता यादव के 04 सदस्यीय परिवार को इस योजना के तहत निःशुल्क खाद्यान्न का लाभ प्रदान किया गया। सुनीता यादव ने एक माह का 20 किलो चावल व 01 किलो चना उठाया है। राशनकार्ड नहीं होने के बावजूद सुनीता यादव के परिवार को खाद्यान्न प्राप्त होने के बाद उनके सामने अब खाने की समस्या नहीं होगी। सुनीता यादव की तरह ही कोई भी प्रवासी श्रमिक या व्यक्ति जिसका नाम किसी अन्य राशनकार्ड में दर्ज नही है, इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकेगा।
राज्य सरकार की इस योजना से राज्य की जनता के साथ ही बेमेतरा जिले के भी लोगो के चेहरे खिल उठे है। लोगों का कहना है कि इस कोरोना काल की विपरीत परिस्थिति में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा दी जाने वाली राशन सामग्री से उनके सामने भोजन की समस्या नहीं रहेगी।

Next Post

राजस्थान राज्य की सीमाएं सील बीच राह में फंसे सैकड़ों राहगीर

जयपुर राजस्थान सरकार की अशोक गहलोत सरकार की ओर से अचानक राज्य की सीमाएं सील करने के आदेश के बाद सैकड़ों राहगीर रास्ते में ही फंस गए हैं। राजस्थान से लगने वालीपंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और गुजरात की अंतरराज्यीय सीमाएं सील करने से बॉर्डर के दोनों और वाहनों की […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।