घुटकू में दूध के डिब्बे में कर रहे थे शराब की तस्करी.. आरोपी गिरफ्तार..युवकों के खिलाफ आबकारी एक्ट के तहत कार्रवाई…

Kajal Lodhi

बिलासपुर

कोनी पुलिस ने घुटकू के घानापारा में दो युवकों को दूध के डिब्बे में शराब ले जाते पकड़ा है। पुलिस ने आरोपित युवकों के कब्जे से 10 लीटर महुआ शराब जब्त कर आबकारी एक्ट के तहत कार्रवाई की है।

कोनी थाना प्रभारी रविंद्र यादव ने बताया कि रविवार की शाम सूचना मिली कि दो युवक घानापारा पारस पावर प्लांट के पास अवैध शराब लेकर जा रहे हैं। इस पर पुलिस की टीम ने घेराबंदी कर मोटरसाइकिल सवार शिवशंकर यादव(20 वर्ष) निवासी जोकी थाना सकरी व जगदीश यादव(20 वर्ष) निवासी सकर्रा थाना हिर्री को पकड़ लिया। पूछताछ में युवक पुलिस को गुमराह करने लगे। इस पर पुलिस ने उनके पास रखे दूध के डिब्बे की तलाशी ली। पुलिस ने दूध के डिब्बे में छिपाकर रखी 10 लीटर महुआ शराब व मोटरसाइकिल को जब्त कर लिया। पुलिस ने युवकों के खिलाफ आबकारी एक्ट के तहत कार्रवाई की है।

तखतपुर थाना प्रभारी मोहन भारद्वाज ने बताया कि रविवार की रात सूचना मिली कि ठाकुरकापा तेली तालाब के पास कुछ लोग महुआ शराब की बिक्री कर रहे हैं। इस पर पुलिस ने मौके पर दबिश देकर विरेंद्र नवरंग (26 वर्ष), रविश भास्कर (21 वर्ष) निवासी सिरसहा व एक नाबालिग को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में युवक पुलिस को गुमराह करने लगे।

कड़ाई से पूछताछ में युवकों ने नाबालिग के साथ मिलकर महुआ शराब बेचना बताया। आरोपित की निशानदेही पर पुलिस ने तालाब के पास छिपाकर रखी 15 लीटर महुआ शराब को जब्त कर लिया। वहीं, पुलिस ने महुआ शराब का परिवहन करने की सूचना पर घेराबंदी कर मुंगेली जिले के बांधा थाना लालपुर निवासी मनोज कश्यप को तीन लीटर महुआ शराब के साथ पकड़ लिया। पुलिस ने पकड़े गए आरोपित के खिलाफ आबकारी एक्ट के तहत कार्रवाई की है।

Next Post

लॉकडाउन: 21 दिन का कंपलीट लॉकडाउन तैयारी में सरकार, सेना अलर्ट

नई दिल्ली  दूसरी लहर के दौरान कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने एक बार फिर कमर कस लिया है. खबर है कि इस बार सरकार पूरे देश में आने वाले दिनों के दौरान 21 दिनों के लिए एक दफा फिर लॉकडाउन लगा सकती […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।