कोरोना: इन जिलों में अभी भी मरीजों का आंकड़ा हजार से ऊपर, रायपुर में राहत तो बिलासपुर में दहशत….

Dilshad Ali

रायपुर

प्रदेश में जहां कोरोना के नए आंकड़े राहतभरे दिख रहे हैं वहीं बिलासपुर संभाग के चार जिलों में अब भी यह आंकड़ा हजार से ऊपर है। वहीं बिलासपुर में कोरोना से मारने वालों की संख्या प्रदेश में सबसे ज्यादा है। आज बिलासपुर में 47 लोगों की मौत कोरोना से दर्ज की गई है।

प्रदेश में ज्यादा जांच होने के बावजूद कोरोना के मरीजों में कमी आई है  कुल 15902 नए कोविड मरीज मिले हैं जबकि शनिवार को 229 लोगों की मौत कोरोना से दर्ज की गई है। वहीं 12508 लोग आज स्वस्थ भी हुए हैं जिनमे ज्यदातार मरीज होम आइसोलेशन के हैं। पिछले 24 घण्टो के नए मरीजो का आंकड़ा प्रदेश में राहत देने वाला रहा है। हालांकि आज प्रदेश में 60, 863 लोगों की कोरोना जांच की गई है।

प्रदेश में सबसे ज्यादा 1465 मरीज रायपुर जिले में मिले हैं जबकि बिलासपुर में शनिवार को कुल नए कोरोना मरीजों की संख्या 1290 दर्ज की गई है। बिलासपुर संभाग के चार जिलों में कोरोना मरीजों की संख्या 1000 से ज्यादा रही इसमें सबसे आगे बिलासपुर है इसके बाद कोरबा में 1228 नए मरीज, रायगढ़ में 1075, जांजगीर चांपा में 1061 मरीज मिले हैं। वहीं दुर्ग में भी आज 1029 मरीज मील हैं।

प्रदेश में शनिवार को सबसे ज्यादा कोरोना से मौत न्यायधानी बिलासपुर में दर्ज की गई जिसकी संख्या 47 है वही राजधानी रायपुर में आज कोरोना से मौत की संख्या 41 है। दुर्ग, धमतरी व कोरबा में आज कोरोना से हुई मौत की संख्या 16-16 है। वहीं रायगढ़ में 14, जांजगीर चांपा 13, राजनादगांव में 10, कवर्धा व बलौदाबाजार में 7-7, बालोद में 6, गरियाबंद, सूरजपुर व जशपुर में 5-5, बलरामपुर व महासमुंद से 4-4, कोरिया व कांकेर में 3-3, सरगुजा, मुंगेली व GPM में 2-2 और बेमेतरा में 1 आदमी की मौत हुई है।

Next Post

फिरोजाबाद में एजेंटों की भीड़ पर लाठीचार्ज, मची अफरा-तफरी

नई दिल्ली   उत्तर प्रदेश में चार चरणों में हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के वोटों की गिनती शुरू हो गई है। प्रदेश में 826 ब्लॉकों में 824 मतगणना केंद्र बनाए गए हैं जहां वोटों की गिनती हो रही है। मतगणना में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आठ कम्पनी सीआरपीएफ, दो कम्पनी […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।