लॉकडाउन.. राज्य सरकार ने पंद्रह मई तक बढ़ाया लॉकडाउन.. रायपुर दुर्ग छोड़ शेष जिलों में छूट .. बस्तर समेत कई ज़िलों में सख़्ती से लॉकडाउन लगाने के निर्देश…

Dilshad Ali

रायपुर

लॉकडाउन की अवधि पंद्रह मई तक बढ़ा दी है। इस अवधि में बस्तर संभाग के लिए विशेष हिदायत है कि वहाँ नया वेरिएंट मिला है जिसका फैलना बेहद ख़तरनाक है, इसलिए वहाँ लॉकडाउन सख़्ती से लागू किया जाए और सीमा पूरी तरह सील कर दी जाए।
दो श्रेणियों में छूट दी गई है जिसे A और B कहा गया है। रायपुर और दुर्ग दो ऐसे शहर हैं जहां दोनों श्रेणियों की छूट उपलब्ध होगी। हालाँकि पूरे प्रदेश में रविवार को सख़्ती से लॉकडाउन होगा।
रायपुर दुर्ग छोड़ कर शेष प्रदेश में कृषि क्षेत्र की दुकानें रिपेयरिंग,किराना दुकान डेली निड्स की होम डिलेवरी ( केवल मोहल्ले में ) कोरियर सर्विस,इलेक्ट्रिश्यन प्लंबर और इनसे जुड़ी दुकानें खुलेंगी, पेट्रोल पंप सबके लिए.. पोल्ट्री माँस आटा चक्की खुलेंगे,रजिस्ट्री ऑफिस पचास प्रतिशत के साथ काम करेंगे पीडब्ल्यूडी एरिगेशन शाम पाँच बजे तक काम करेंगे।
रायपुर दुर्ग के लिए ये छूटें अतिरिक्त रुप से मिलेंगी जिनमें स्टेशनरी बाईक रिपेयर होटल से होम डिलेवरी.. प्रायवेट निर्माण सेक्टर चालू .. लॉंड्री सर्विस खुलेंगे।
जो प्रतिबंधित पूरे प्रदेश में उनमेहैं -मार्केट धार्मिक स्थल स्कुल कॉलेज दारु दुकान पर्यटन क्षेत्र सडक किनारे दुकानें मंडी पार्क जिम और किसी प्रकार की सामुदायिक भीड नहीं होगी।

Next Post

शादी के बाद दूल्हे की कोरोना से मौत 

डूंगरपुर कोरोना वायरस की दूसरी लहर खतरनाक हो चुकी है। हर तरह मौत का तांडव है। लोग दहशत में हैं। राजस्थान के डूंगरपुर में तो शादी के महज नौ दिन बाद ही दूल्हे की मौत हो गई। कोरोना संक्रमण की वजह से दूल्हे की मौत के बाद दुल्हन का रो-रोकर […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।