हरियाली वेलफेयर ने किया वृक्षारोपण व पेपर बैग का वितरण

News Desk

रायपुर
विश्व पेपर बैग दिवस के अवसर पर हरियाली वेलफेयर सोसायटी ने पॉलिथीन बैग के उपयोग ना कर पेपर बैग के उपयोग हेतु जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया। इस दौरान सोसायटी द्वारा वृक्षारोपण के साथ ही 200 पेपर बैग का वितरण विभिन्न स्थानों में किया गया।

डा. पुरुषोत्तम चंद्राकर ने बताया कि न्यूज पेपर, हैंड मेड शीट व वॉलपेपर के मिश्रण व विभिन्न पौधों के बीजों से कैरी बैग का निर्माण किया गया है जो खराब हो जाने के बाद उसमें मिश्रित बीज से पौधों का निर्माण अपने-आप हो जाता है।  पेपर बैग बनाने में पेड़ों का उपयोग होता है इसलिए हमें पर्यावरण को संतुलित करने के लिए ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाना चाहिए। जिससे हमेशा हरियाली बनी रहे और इसलिए हमने हमारी संस्था नाम भी हरियाली वेलफेयर सोसायटी रखा है। चंगोराभाठा में स्थित महादेवा तालाब के समीप सोसायटी के डॉक्टर अल्पना देशपांडे, नरेंद्र गोस्वामी, चंद्रकांत देवांगन, पुनीता चंद्रा, कृष्ण कुमार वर्मा, नवनीत चावड़ा, डॉक्टर पुरुषोत्तम चंद्राकर, श्रेया चंद्राकर, श्रीमती मनीषा चंद्राकर, आकाश कुशवाहा, मुकेश टिकरिहा, श्रीमती मनीषा चंद्राकर ने 12 पौधे लगाए और संकल्प लिया कि हम इन पेड़ों की रक्षा हमेशा करेंगे।

इस दौरान डा. अल्पना देशपांडे द्वारा बनाए गए न्यूज पेपर बैग का चंगोराभाठा, राजेंद्र नगर क्षेत्र के अलावा विभिन्न क्षेत्रों में लगभग 200 बैगों का वितरण नि:शुल्क किया गया। डा. देशपांडे द्वारा नि:शुल्क प्रशिक्षण भी दिया जाता है और अब तक उनक द्वारा 2500 बैगों का वितरण किया जा चुका है।

Next Post

हार्दिक पटेल का गुजरात कांग्रेस का कार्यकारी अध्यक्ष बनना अहमद पटेल के लिए बड़ी सियासी चोट!

  अहमदाबाद हार्दिक पटेल को गुजरात कांग्रेस का कार्यकारी अध्यक्ष बनाकर कांग्रेस ने बड़ी चाल चली है। इस नियुक्ति से यह भी संदेश मिली है कि कांग्रेस अध्यक्ष के पूर्व राजनीतिक अडवाइजर अहमद पटेल की गुजरात की राजनीति में पकड़ भी कम हो गई है। 26 साल के नेता हार्दिक […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।