गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट निर्माण प्रक्रिया शुरू

News Desk

रायपुर
राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना के तहत पशुपालकों और किसानों से खरीदी गई गोबर से अब प्रदेश के गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट बनाने का सिलसिला शुरू हो गया है। सरगुजा जिले के गौठानों में भी गोबर से वर्मी कम्पोस्ट बनाने की तैयारी जोरो से चल रही है। यहां गठित गौठान समिति के सदस्यों  एवं स्व-समूह की महिलाएं वर्मी टांका में गोबर डालकर वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने में जुटी गई है।

अधिकारियों ने बताया कि जिले के जनपद पंचायत अम्बिकापुर के ग्राम पंचायत केशवपुर के गौठान में समूह की महिलाएं वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाना शुरू कर दी गई हैं। केंचुआ से खाद बनाने के लिए समूह की इन महिलाओं ने कृषि विज्ञान केंद्र के माध्यम से तकनीकी प्रशिक्षण प्राप्त किया है। जिले के 86 गौठानों में बीते 20 जुलाई से गोधन न्याय योजना के तहत गौठान समिति द्वारा पशुपालकों से गोबर की खरीदी जा रही है। केशवपुर गौठान में 86.13 क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है। वर्मी कम्पोस्ट बनाने के लिए गोबर तथा घुरवा अपशिष्ट को आयताकार बने पिट में डालकर रिफिलिंग किया जाता है। उसमे उचित मात्रा में केंचुआ डाला जाता है। गौठान में वर्मी कम्पोस्ट लगभग 75 प्रतिशत तैयार हो गया है। आगामी 10 दिनों में पूर्ण रूप से वर्मी कम्पोस्ट बनकर विक्रय के लिए उपलब्ध हो जाएगा। इससे समूह की महिलाओं को अतिरिक्त आमदनी होगी।

Next Post

पीड़ित परिवारों को 16 लाख रूपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत

रायपुर प्राकृतिक आपदा से चार मृतक के परिजनों को आर.बी.सी. 6-4 के तहत चार-चार लाख रूपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की गई है। धमतरी जिले के नगरी विकासखण्ड के ग्राम हरदीभाठा निवासी बुधलाल मरकाम की पानी में डूबने से मृत्यु होने के प्रकरण में उनकी पत्नी श्रीमती जयंती मरकाम […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।