असामिया लेखिका राजद्रोह के मामले में गिरफ्तार

News Desk

रायपुर। शनिवार को जगदलपुर के सुकमा जिले के तर्रेम-सिलगिरी के जीरागांव में हुए सुरक्षा बल व नक्सलियों के मध्य हुई मुठभेड़ को लेकर फेसबुक पर टिप्पणी करने वाली असम की महिला लेखिका 48 वर्षीय शिखा सरमा को राजद्रोह के मामले में असम पुलिस ने मंगलवार की रात में गुवाहाटी से गिरफ्तार कर बुधवार को उन्हें न्यायालय में पेश किया।

असमी लेखिका शिखा सरमा ने छत्तीसगढ़ के नक्सली हमले में शहीद हुए 22 जवानों को लेकर अपने फेसबुक पोस्ट लिखा था जिसमें उन्होंने शहीद का दर्जा दिए जाने के मामले में प्रश्नचिंन्ह खड़े किए थे। के दर्जे को लेकर सवाल खड़े किए थे, जिसके आधार पर उनके खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया है। इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित खबर के अनुसार गुवाहाटी के पुलिस कमिश्नर मुन्ना प्रसाद गुप्ता के हवाले से कहा है कि शिखा सरमा गुवाहाटी निवासी लेखिका हैं और उन्हें आईपीसी की धारा 124 एक (राजद्रोह) समेत अन्य धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है। सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहने वालीं सरमा ने सोमवार को छत्तीसगढ़ हमले को लेकर एक फेसबुक पोस्ट लिखा था।

महिला लेखिका ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा था कि अपनी ड्यूटी के दौरान काम करते हुए मरने वाले वेतनभोगी पेशेवरों को शहीद का दर्जा नहीं दिया जा सकता। इस तर्क से तो बिजली विभाग में काम करने वाले कर्मचारी की अगर बिजली के झटकों की वजह से मौत हो जाती है तो उसे भी शहीद का दर्जा मिलना चाहिए। लोगों की भावनाओं के साथ मत खेलो। शिखा सरमा के इस पोस्ट की तीखी आलोनचा हुई।

इस पोस्ट के बाद गुवाहाटी हाईकोर्ट के दो वकीलों उमी देका बरुहा और कंगकना गोस्वामी ने दिसपुर पुलिस स्टेशन में लेखिका शिखा सरमा के खिलाफ मामला दर्ज कराया। वकीलों ने अपनी एफआईआर में कहा-यह हमारे सैनिकों के सम्मान का पूरी तरह से अपमान है और इस तरह की भद्दी टिप्पणी न केवल हमारे जवानों के अद्वितीय बलिदान को कम करती है, बल्कि राष्ट्र की सेवा की भावना और पवित्रता पर मौखिक हमला भी है। शिकायतकतार्ओं ने अधिकारियों से सरमा के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का अनुरोध किया। दिसपुर पुलिस स्टेशन के ओसी प्रफुल्ल कुमार दास ने कहा कि मामला दर्ज कर लिया गया है और एफआईआर के आधार पर एक गिरफ्तारी हुई है। उन्होंने बताया कि सरमा ने बताया कि वह एक लेखिका हैं। शिखा के फेसबुक प्रोफाइल से पता चला कि वह डिब्रुगढ़ के आॅल इंडिया रेडियो में एक आर्टिस्ट हैं।

Next Post

कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने में सहयोग देने की मुख्यमंत्री की अपील पर सभी समाज एकजुट

रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ कोविड-19 संक्रमण से उत्पन्न परिस्थितियों पर विभिन्न समाजों के प्रमुखों एवं सामाजिक संगठनों से चर्चा की। मुख्यमंत्री ने पांचों संभाग मुख्यालयों से वीडियो कॉन्फ्रेंस से जुड़े सामाजिक प्रतिनिधियों को प्रदेश में कोरोना संक्रमण की  स्थिति की जानकारी […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।